thunder storm

देश कोरोना जैसी महामारी से लंबे समय से जूझ रहा तो वही तूफान भूकंप और आकाशीय बिजली जैसी प्राकृतिक आपदा ने आम जनमानस को अस्त व्यस्त कर दिया है।

शनिवार कि देर शाम किशोर मोनू पुत्र भुवर उम्र 12 वर्ष घर से कुछ ही दूरी पर आम के बगीचे में गया हुआ था। जहां आकाशीय बिजली की चपेट में आने से मौत हो गयी।

पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर मंगलवार तक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना के साथ पश्चिम बंगाल, ओडिशा, सिक्किम और पूर्वोत्तर के राज्यों के कुछ हिस्सों में मानसून 11-12 जून तक आगे बढ़ सकता है।

आनन फानन में घायलों को इलाज के लिए सीएचसी लालगंज लाया गया। जहां पर घायलों का इलाज चल रहा है। और शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया

तस्वीरों में आप देख सकते हैं किस तरीके से कच्चा आम सड़ कर जमीन पर बिखरा पड़ा है। और जो बाकी सही आम बचा है वह भी जमीन पर ही पड़ा हुआ है।

पटना : बिहार के विभिन्न क्षेत्रों में हो रही बारिश के दौरान आसमानी बिजली (वज्रपात) की चपेट में आने से कम से कम 32 लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। इस बीच राज्य सरकार ने मृतक के परिजनों को चार-चार लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है। बिहार राज्य आपदा …