top political news

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि उनकी सरकार को गिराने के प्रयास को रोका जाए और कहा कि वह सचिन पायलट के नेतृत्व में कांग्रेस के बागियों का स्वागत करने के लिए तैयार हैं।

सांसद आजम खां को राजस्व परिषद से तगड़ा झटका लगा है। जौहर यूनिवर्सिटी के लिए बिना परमीशन दलितों की जमीनें खरीदने के 10 मुकदमों में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा है। अब यह जमीन सरकारी घोषित की जाएगी।

हेडलाइन पढ़ कर खोपड़ी खुजाने लगे न, चलो कोई नहीं हम बता देते हैं आखिर वो चीज है क्या, जिसके प्यार के आगे सबका प्यार हार जाता है। तो मेहरबान, कदरदान, थूंक के पान, कर के साफ़ कान। पढ़िए, पढ़िए, पढ़िए...

राजनीति में सीट को लेकर महाराष्ट्र में खींचातानी अब अपनी चरम सीमा है। खींचातानी महाराष्ट्र में सीएम के पद को लेकर है। विधानसभा चुनाव के परिणाम के बाद से ही राजनीतिक प्रतिक्रिया बहुत तेज हो गई हैं लेकिन फैसला सिर्फ एक कदम दूर है।

भारतीय जनता पार्टी ने हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 के लिए अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। भाजपा ने इसे संकल्प पत्र नाम दिया है। इस घोषणा पत्र में किसानों की इनकम दोगुनी करने से लेकर लाखों युवाओं को कौशल सीखाने तक के कई महत्वपूर्ण वादे किए हैं। 

फूलन की मौत के बाद से उसे वोट पाने का जरिया बना दिया गया। अब हर साल 25 जुलाई को बड़े आयोजन होते हैं। नेता बड़ी-बड़ी बातें करते हैं। लेकिन कोई उस समाज को नहीं बदलना चाहता जो एक बच्ची को फूलन बनाने में कोई कोताही नहीं बरतता।

टीएमसी में ऐसा कोई विधायक नहीं है जो इतनी राशि का हकदार है। जनता को ये भी नहीं पता कि उनका विधायक कौन है? टीएमसी के विधायकों की कोई लोकप्रिता नहीं है।

समाजवादी पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने चन्द्रशेखर के निधन के बाद उनके परिवार की परम्परागत सीट बलिया से टिकट देकर उनको राजनीतिक संरक्षण देने का काम किया।

विगत कुछ दशकों में लिंचिंग की घटनाओं का भारत स्वयं भुक्तभोगी बन गया है। लिंचिंग की घटनाएं आज देश में बेरोक-टोक जारी हैं। इस तरह के अपराधियों के खिलाफ सरकार के पास अलग से कोई कानून नहीं है।

भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर ने समाजवादी पार्टी (सपा) से गठबंधन तोड़ने के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती पर पहली बार निशाना साधा। चंद्रशेखर ने मायावती पर उनके मार्गदर्शक और पार्टी के संस्थापक कांशीराम द्वारा शुरू किए गए सामाजिक न्याय आंदोलन को कमजोर करने के प्रयास का आरोप लगाया।