top political news

पीएम मोदी ने हाल में संपन्न हुए आम चुनाव में भारी बहुमत के लिए, मंत्रियों समेत सभी अधिकारियों की पूरी टीम को पिछले पांच वर्षों में कड़ी मेहनत, कल्पना की गई योजनाओं और जमीन पर उत्कृष्ट परिणाम मिलने पर सभी को इसका श्रेय दिया।

कमलनाथ ने ट्वीट किया, ‘‘आज मंदसौर गोलीकांड की दूसरी बरसी है। इस बर्बर गोलीकांड में मारे गए सभी छह किसानों के प्रति भावभीनी श्रद्धांजलि। हमारी सरकार इस कांड के दोषियों को सज़ा दिलाने, पीड़ितों को न्याय दिलवाने और बेगुनाह किसानों पर दर्ज झूठे मुक़दमे वापस लेने के लिये दृढ़ संकल्पित है।’’

नोटिस का जवाब देते हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा, अब मैं अनुशासन में रहूंगी, होना भी चाहिए क्योंकि पार्टी का अपना एक अनुशासन है। गोडसे को देशभक्त बताने वाले विवाद पर अनुशासन समिति ने जवाब मांगा था। प्रज्ञा सिंह को 10 दिन के अंदर अनुशासन समिति को रिपोर्ट देनी थी।

केंद्र सरकार विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में परिसीमन करना चाहती है और इसकी तैयारी अंतिम चरण में है। सरकार जम्मू के प्रतिनिधित्व में असमानता दूर करने के लिए इस दिशा में फौरन बढ़ना चाहती है। इस मसले पर गृह मंत्रालय और राज्यपाल एक-दूसरे के संपर्क में हैं।

राज्य में लोकसभा चुनावों में कांग्रेस को मिली करारी हार के लिए पार्टी ने नेशनल कॉन्फ्रेंस को जिम्मेदार ठहराया था। कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि फारूक और उमर अब्दुल्ला ने जम्मू में पार्टी के लिए प्रचार नहीं किया।

सोमवार को शासन सचिवालय में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग की ओर से वीडियो कॉफ्रेंस का आयोजन किया गया था। उस समय विभाग की सचिव मुग्धा सिन्हा विभाग के अधिकारियों से विभिन्न योजनाओं पर चर्चा कर रही थीं। इसी दौरान स्‍क्रीन पर अचानक पॉर्न वीडियो चल गया।

“जय सिया राम, जय रामजी की, राम नाम सत्य है आदि के धार्मिक और सामाजिक निहितार्थ हैं। लेकिन भाजपा धार्मिक नारे जय श्री राम को अपनी पार्टी के नारे के तौर पर गलत तरीके से इस्तेमाल कर धर्म को राजनीति से मिला रही है।”

मायावती ने उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, राजस्थान, गुजरात व उड़ीसा के राज्य प्रभारियों को हटाया है। इसके साथ ही दिल्ली व मध्य प्रदेश के प्रदेश अध्यक्षों को भी हटाया गया है। दिल्ली में सुरेंद्र सिंह की जगह लक्ष्मण सिंह और मध्य प्रदेश में डीपी चौधरी की जगह रमाकांत पुत्तल को नया प्रदेश अध्यक्ष बनाया है।

प्रधानमंत्री पद पर पुन: आसीन होने के पश्चात यह पहला अवसर होगा जब मोदी दक्षिण भारत के किसी राज्य की यात्रा करेंगे। मंदिर सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री, भगवान कृष्ण के इस मंदिर में लगभग 45 मिनट तक रूकेंगे।

डॉ पांडेय ने कहा कि राजभर ने गठबंधन में रहते हुए लगातार भाजपा व भाजपा सरकार के खिलाफ आपत्तिजनक बयान दिए। सरकार की नीतियों का विरोध किया और उसके अनुपालन में बाधा उत्पन्न कर अपने संवैधानिक दायित्वों की भी धज्जियां उड़ाईं।