triple talaq

उन्होंने कहा कि तीन तलाक को खत्म करना आसान नहीं था। मोदी सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बिल लेकर आई। लोकसभा में बीजेपी का बहुमत था हमने पास कराया। पर राज्यसभा में कांग्रेस का बहुमत था उन्होने बिल को गिराया।

ताजा मामला सीतापुर के खैराबाद कस्बे के तुर्क पट्टी मुहल्ले का है। दहेजलोभी  ने दहेज में बाइक ने मिलने से नाराज होकर अपनी पत्नी को तीन तलाक देने के बाद उसकी नाक काट दी।

पत्नी को फौरी तीन तलाक के जरिए छोड़ने वाले मुस्लिम पुरुष को तीन साल तक की सजा के प्रावधान वाले कानून को शुक्रवार को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी गई।

आपको बता दें तीन तलाक बिल पास होने के अगले ही दिन गुजरात से एक हैरान वाला मामला आया है। अहमदाबाद में तीन तलाक मिलने के बाद विवाहिता ऐसी टूट गयी की उसने अताम्हात्या करने की कोशिश की है।

मुस्लिम महिलाओं के लिए मंगलवार बड़ा मंगल संदेश लेकर आया। बहुत सालों बाद संसद ने कोई ऐसा बिल पास किया है। जिसने हिंदू और मुसलमान औरतों के बीच की खाई को पाट कर रख दिया है। इन दोनो कौम की औरतों के अहसास को एक बराबर कर दिखाया है।

आखिरकार देश में तीन तलाक बिल लोकसभा के बाद आज राज्यसभा में पारित हो गया। इसके लिए मोदी सरकार ने काफी मशक्कत की, मुस्लिम महिलाओं ने लम्बी लड़ाई लड़ी, टीवी चैनलों में लम्बी बहसें हुई।

लोकसभा में पास होने के बाद तीन तलाक को अपराध बनाने वाला बिल अब राज्यसभा में भी पास हो गया। इसी के साथ आज यानी मंगलवार को संसद ने इतिहास रच दिया। इस बिल में तीन तलाक को गैर कानूनी बनाते हुए 3 साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान शामिल किया गया है।

तीन तलाक बिल को लेकर लोकसभा में गुरुवार को चर्चा हो रही है। इस बीच सपा सांसद एसटी हसन ने संसद के बाहर विवादित बयान दिए हैं। उन्होंने कहा कि बीवी को गोली मारने से बेहतर तीन तलाक देकर रुख्सत करना है। उन्होंने कहा, 'बीवी को गोली मारने से अच्छा है कि उसे तलाक दे दें।

एक साथ तीन बार तलाक बोलकर तलाक दिए जाने यानी तलाक-ए-बिद्दत को तीन तलाक विधेयक में अपराध घोषित किया गया है| इसके साथ ही, बिल में यह भी कहा गया है कि दोषी को जेल की सजा सुनाई जा सकती है| ऐसे में इस बिल को लोएकर काफी बवाल हो रहा है|

तिवारी ने यह भी कहा कि अगर एनडीए की सरकार मुस्लिम पर्सनल लॉ में हस्तक्षेप करने की इच्छुक है तो उसे समुदाय से परामर्श करना चाहिए लेकिन वह ऐसा करते।