turkey

पुलिस की छापेमारी के बाद अल्बायर्क एंड ओज्पैक ग्रुप के प्रोजेक्ट मैनेजर केग्री ओजेल ने पाकिस्तान सरकार को पत्र लिखा है और माफी मांगने की बात कही है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर माफी नहीं मांगी गई तो कंपनी किसी भी नीलामी में शामिल नहीं होगी।

इस साल तुर्की ने सोने के उत्पादन को लेकर अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया है। तुर्की के उर्जा मंत्री फेथ डॉनमेज़ ने सितंबर महीने में ही लक्ष्य रखा था कि तुर्की को करीब 100 टन सोना उत्पादन करना है।

तुर्की में सोने का एक बहुत बड़ा खजाना मिला है। जिसकी कीमत करीब 44 हजार करोड़ रुपये के आसपास है, जो कई देशों की जीडीपी से भी बहुत ज्यादा है।

तुर्की के विदेश मंत्रालय की तरफ से बयान जारी कर कहा गया है कि अमेरिका से इन प्रतिबंधों का बदला लेंगे। तुर्की को बीते साल 2019 में रूस ने S-400 मिसाइल सिस्टम की पहली खेप दिया था। अब इसको लेकर अमेरिका और तुर्की के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया है।

अमेरिका और रूस के बीच तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में अमेरिका ने इस बार दावा किया है कि रूस ने एंटी-सैटलाइट मिसाइल का टेस्ट किया है। ये टेस्ट समझौते का खुला उल्लंघन है।

तुर्की भी पाकिस्तान की तरह ही कश्मीर को लेकर एक नई खतरनाक साजिश रच रहा है। सामने आई रिपोर्ट्स में बताया जा रहा कि तुर्की ईस्ट सीरिया के अपने लड़ाकों को कश्मीर भेजने की पूरी तैयारी कर रहा है।

भूकंप के झटकों से कांप उठी है। आज यानी 27 नवंबर को तुर्की के मालट्या प्रांत में जोरदार भूकंप के झटके महसूस किये गए हैं। ऐसे में 4.7 तीव्रता के आए इस भूकंप से लोगों में दहशत बनी हुई है। जिसके बाद डरे-सहमे लोग सड़कों पर आ गये।

एक डेयरी प्लांट को इसलिए बंद करा दिया गया है क्योंकि प्लांट में काम करने वाला एक शख्स 'मिल्क बाथ' ले रहा था। इस शख्स के दूध में नहाने का वीडियो टिकटॉक पर वायरल हो गया जिसके बाद कई यूजर्स काफी आलोचना करते नजर आए।

तुर्की में आई तबाही में अबतक 76 लोगों की मौत हो चुुकी है, जबकि 900 से अधिक लोग बुरी तरह से घायल हैं। मलबे में लोग अपने परिवार सगे-संबंधियों को ढूंढ रहे हैं। तु्र्की की सेना और वहां की कई एजेंसियां मलबे में फंसे जिंदा लोगों की तलाश में जुटी हुई हैं। 

आर्मीनिया और आजरबैजान के सुरक्षाबलों ने हुए नये हमलों का कसूरवार एक-दूसरे को ठहराया है। दूसरी तरफ नागार्नो-काराबाख के विवादित इलाके को लेकर आजरबैजान के लिए तुर्की ने फिर से तगड़ी आवाज उठाई है।