up police

पुलिस महानिरीक्षक सुभाष सिंह बघेल ने पुलिस लाइन में अधीनस्थ अफसरों के साथ हुई बैठक में कही है। उनका कहना है कि शासन द्वारा जारी गाइड लाइन के मुताबिक लड़कों पर किसी भी धार्मिक आयोजन की अनुमति नहीं है।

पुलिस ने इस मामले में 5 लोगों को हिरासत में लिया है । मुख्य आरोपी फरार है । पुलिस उप महानिरीक्षक ने इस घटना में पुलिस की लापरवाही को स्वीकार किया है ।

रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर ग्राम में सरकारी सस्ते गल्ले के दुकान के चयन के दौरान कल दिनदहाड़े हुए घटना के मामले में लापरवाही बरतने पर रेवती थाना पर तैनात तीन उप निरीक्षक सूर्य कांत पांडेय , सदानन्द यादव व कमला सिंह यादव तथा छह आरक्षियों को निलंबित कर दिया गया है ।

बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि अगर कोई परिवार पर हमला करता है तो सामने वाला क्रिया की प्रतिक्रिया देगा ही। सुरेंद्र सिंह ने कहा कि आप लोग उसे आरोपी बता रहे हैं। उसके पिता को उन्होंने डंडे से मारा। किसी के पिता, किसी की माता, किसी की भाभी और किसी की बहू को को मारेगा तो क्रिया की प्रतिक्रिया होगी ही।

आने वाले त्यौहारों को लेकर अधिकारियों से सजग रहने को कहा गया है। उत्तेजना, सनसनी और भड़काऊ बयानों व संदेशों पर कड़ी कार्रवाई होने के साथ ही पुलिस अधिकारियों की जिम्मेदारी और जवाबदेही हर-हाल में सुनिश्चित की गयी है।

बलिया के रेवती थाने के दुर्जनपुर का है, जहां बीजेपी नेता धीरेंद्र सिंह ने एसडीएम, सीओ और पूरे प्रशासन के सामने एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। युवक का नाम जयप्रकाश पाल था, जिसकी गोली मारकर बीजेपी नेता ने हत्याकर दी और मौके से फरार हो गया।

हाथरस कांड को लेकर सामाजिक कार्यकर्ताओं और वकीलों की ओर से एक जनहित याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई है जिस पर बृहस्पतविार को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की।

पिछले 29 अगस्त को टोला नेकाराय निवासी रामबालक सिंह के परिजनों के साथ पूर्व सांसद भरत सिंह के परिजनों से जमीन को लेकर विवाद हो गया था, जिसमे गोली लगने से पूर्व सांसद भरत सिंह के भाई का पौत्र घायल हो गया था। मामले में बैरिया पुलिस ने रामबालक सिंह व उनके परिजनों पर धारा 307 सहित विभिन्न धाराओं में एफआईआर दर्ज किया था।

14 सितम्बर को हाथरस में एक दलित युवती के साथ कथित दुष्कर्म व इलाज के दौरान मौत और पुलिस-प्रशासन द्वारा बिना परिवार वालों की मंजूरी के किए गए अंतिम संस्कार से उठे सवालों का जवाब देने के लिए एसआईटी ने अपनी जांच की कार्यवाही पूरी कर ली है।

अधिकारियों के साथ आज एक बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हर थाने में एक महिला हेल्प डेस्क स्थापित की जाए। राज्य सरकार द्वारा लागू किया जा रहा 'मिशन शक्ति' अभियान शारदीय नवरात्रि से लेकर बासंतिक नवरात्रि तक निरन्तर चलाया जाएगा।