US

केंद्र की मोदी सरकार ने भारत में टिक टाॅक समेत 59 चीनी एप को बैन कर दिया है। चीनी एप्स को बैन करने पर अमेरिका ने भारत का समर्थन किया है। अमेरिका ने भारत की इस कार्रवाई की तारीफ की है।

कोरोना वायरस के बाद अमेरिका और चीन के संबंध काफी तनावपूर्ण बने हुए हैं। अमेरिका चीन से इस मामले के बाद काफी नाराज चल रहा है।

कोरोना वयरस के बाद सैन्य आक्रामकता और हॉन्ग-कॉन्ग को लेकर दुनियाभर में चीन के खिलाफ गुस्सा बढ़ रहा है। चीन के हॉन्ग-कॉन्ग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लाने के बाद अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी उससे सवाल पूछे जा रहे हैं।

भारत चीन तनाव के बीच भी अमेरिका ने लगातार भारत का साथ दिया है। जिससे चीन को अब यह डर सताने लगा है कि कहीं अमेरिका और भारत उसके खिलाफ एक साथ ना हो जाएं।

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर पहुंच चुका है। चीन ने भारत के खिलाफ लगातार तनाव को बढ़ाने का काम कर रहा है, तो वहीं दक्षिण चीन सागर में भी तनाव बढ़ा रहा है।

हॉन्गकॉन्ग को लेकर अमेरिका और चीन में टकराव बढ़ गया है। अमेरिका ने ऐसा फैसला लिया है जिससे चीन बौखलाएगा। अमेरिकी सीनेट ने हॉन्गकॉन्ग से जुड़े विवादित कानून को लेकर चीन पर बैन लगाने को मंजूरी दे दी है।

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ ने चीन को भारत और दक्षिणपूर्व एशिया के लिए खतरा बताया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उसकी वजह से अमेरिका ने यूरोप में अपनी सेना घटानी शुरू कर दी है।

पाकिस्तान कभी भी भारत के खिलाफ नापाक हरकतें करने से बाज नहीं आता है। इस बीच पाकिस्तान एक और घटिया चाल चलने वाला था, लेकिन उसकी कोशिश नाकाम हो गई है।

भारत अमेरिका से M777 अल्ट्रा लाइट होवित्जर तोप के लिए एक्सकैलिबर ऐम्युनिशन खरीदने की तैयारी में हैं। इसके लिए सेना केंद्र के 500 करोड़ के आपात फंड का इस्तेमाल करेगी।

लद्दाख के गलवान घाटी में चीन और भारतीय सैनिकों के बीच हिंसक झड़प पर अमेरिका ने फिर बयान दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने भारत के साथ सीमा पर चल रहे तनाव को लेकर चीन पर तीखा हमला बोला है।