vhp

मिलिंद परांडे ने अपने प्रेस बयान में, इंटोल के महासचिव वीएचपी ने कहा कि 1989 के बाद से न तो वीएचपी और न ही श्री राम जन्मभूमि न्यास ने भगवान श्री राम के जन्म स्थान पर मंदिर के लिए धन इकट्ठा करने की कोई घोषणा की थी या नहीं की थी।

सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या राम मंदिर पर सुप्रीम फैसले के बाद विश्व हिंदू परिषद जल्द ही मूल एजेंडे घर वापसी अभियान पर नए सिरे से जुटेगी।  बता दें कि विश्व हिंदू परिषद, राम मंदिर पर फैसला आने से पहले जनता के मध्य विशेष अभियान संचालित करके संवाद स्थापित करता था।

सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को राम जन्मभूमि केस में फैसला सुनाया है। सीजेआई रंजन गोगोई की अध्‍यक्षता वाली पांच जजों की संविधान पीठ ने विवादित जमीन रामलला विराजमान को देने का फैसला सुनाया। इसके अलावा सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड को अयोध्‍या में कहीं भी पांच एकड़ जमीन देने को कहा है।

अयोध्या में मंदिर का निर्माण ठीक गुजरात के सोमनाथ मंदिर के तर्ज पर किया जायेगा। ध्यान देने योग्य बात आपको बता दें कि सोमनाथ मंदिर के लिए भी केंद्र सरकार ने ट्रस्ट का गठन किया था।

इसके साथ ही कोर्ट ने केंद्र सरकार को 3 महीने में ट्रस्ट बनाने को कहा है, कोर्ट ने निर्मोही अखाड़ा और वक्फ बोर्ड की याचिका खारिज कर दी है। इसी बीच बड़ा सवाल खड़ा होता है कि इस फैसले के कानूनी मायने क्या हैं

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि हिंदुओं के लिहाज से आज का दिन बहुत अच्छा रहा, कोर्ट के इस फैसले ने 200 साल के लंबे इंतजार को खत्म किया है।

विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार का कहना है कि पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादी शिविर पर भारतीय वायुसेना के हवाई हमले का जश्न मनाया जाना चाहिए क्योंकि यह सशस्त्र बलों की वीरता के साथ-साथ देश के राजनीतिक नेतृत्व के संकल्प को भी दर्शाता है।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में newstrack.com की खबर का बड़ा असर हुआ है। आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद विश्व हिंदू परिषद(वीएचपी) ने कलेक्ट्रेट परिसर के गेट पर झंडे लेकर जमकर हंगामा काटा था।

चुनाव आचार सहिंता लागू हुए अभी 24 घंटे भी नहीं बीते है, लेकिन उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में पुलिस के सामने इसकी जमकर धज्जियां उड़ाई गईं। यहां विश्व हिंदू परिषद ने कलेक्ट्रेट परिसर के गेट पर जमकर नारेबाजी की।

कार्यक्रम का संचालन केंद्रीय संत संपर्क प्रमुख अशोक तिवारी ने किया तथा अन्त में विहिप के प्रान्यासी मंडल के सदस्य दिनेश ने सभी संतों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम में भारी संख्या में युवा संत मौजूद रहे।