views

माह- फाल्गुन, तिथि-एकादशी, पक्ष-कृष्ण, दिन बृहस्पतिवार नक्षत्र- पू.षा./ उ.षा, सूर्योदय-06.56, सूर्यास्त-18.05।  12 राशियों के लिए बृहस्पतिवार का दिन कैसा रहेगा। जानते हैं राशिफल...

हिंदू धर्म में कार्तिक माह का बड़ा महत्व है। पूरे मास स्नान करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं। भगवान विष्णु को ये मास बहुत प्रिय है। इस मास के आखिरी दिन कार्तिक पूर्णिमा का महत्व सारी तिथियों में अधिक है। 12 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा  है।इस दिन गंगा स्नान और दीपदान करना चाहिए।

मंगलवार 12 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा है । इस पूर्णिमा का धर्म शास्त्रों में बहुत महत्व है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने से स्वर्ग का मार्ग मिलता है। इस लोग गंगा, सरयू, नर्मदा और यमुना में डुबकी लगाते हैं । कार्तिक पूर्णिमा पर व्रत भी करने का विधान है।

आज विकास के मामले में हम भले कई लदेशों से भी पीछे रह गए है, कुछ बुलंदियों को छुए है और कुछ सफलताओं को छुते छूते रह गएं हो।लेकिन आज भी हम अपनी हम अपने इतिहास की बात करें तो हम भारतीयों को उस गर्व है। आज चंद्रयान-2 भले पहुंचते –पहुंचते रह गया है है,लेकिन हम उससे भी

गणेश चतुर्थी के दौरान भगवान गणेश की  मूर्ति स्थापित की जाती है और उनकी पूजा की जाती है। सर्वप्रथम पूज्य  भगवान गणेश सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है। गणेश चतुर्थी की समाप्ति पर उनकी प्रतिमा को पानी में विसर्जित किया जाता है। गणेश विसर्जन की शुरूआत गणेश चतुर्थी के अगले दिन से हो जाती है।

सृष्टि के दर्शन को लोक तक पहुंचाने का दायित्व ऋषि समुदाय का ही था। उन्होंने इस कार्य को बहुत ही लगन व निष्ठा से किया और इतनी मज़बूत नींव तैयार की जिससे आज भी सृष्टि में सनातन संस्कृति विद्यमान है। 3 सितंबर को पड़ने वाला ऋषिपंचमी व्रत उन्ही दार्शनिक तत्वज्ञानी  महामनीषियों की पूजा का दिन है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, महादेव शिवशंकर स्वयं प्रगट हुए है। उनकी लिंग रुप में भी पूजा होती है और भगवान शिवलिंग रुप में 12 स्थानों पर विराजमान है। जानते है सावन में भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग के बारे में...

जयपुर: धर्मग्रंथों में भगवान गणेश की उपासना कल्याणकारी मानी गई है। भगवान गणेश की अराधना का दिन यूं तो बुधवार को होता है। लेकिन उनकी रोजाना की पूजा भी  विशेष फलदायी होती है। भगवान गणेश को विघ्नहर्ता कहा गया है जो हर विघ्न का नाश करते है।  उनसे जुड़े मंत्र काफी प्रभावशाली होते हैं जो …

यही कारण है कि हर साल जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा में भगवान श्री कृष्ण, भाई बलराम और बहन सुभद्रा की प्रतिमाएं रखी जाती है और इसी घटना की याद में हर साल तीनों देवों को रथ पर बैठाकर नगर के दर्शन कराए जाते हैं।

हस्तरेखा के अनुसार अगर हाथ के अंगूठे के नीचे जीवन रेखा होती है। इससे घिरा क्षेत्र शुक्र पर्वत होता है। हाथ में अगर इस स्थान से कोई रेखा निकलकर शनि पर्वत पर जा कर मिलती है तो ऐसे व्यक्ति का विवाह के बाद भाग्योदय होता है।