west bengal

बीरभूम के मल्लरपुर इलाके के मेघदूत क्लब में यह धमाका शनिवार की रात करीब 1 बजे हुआ। धमाके की वजह से क्लब में लगे लोहे के तीन गेट पूरी तरह टूट गए जबकि आसपास के मकानों को भी इससे भारी नुकसान पहुंचा।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की मुखिया ममता बनर्जी ने विधानसभा चुनावों को लेकर बड़ा दांव चला है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को कहा, 'पश्चिम बंगाल में बीजेपी के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए लेफ्ट फ्रंट, कांग्रेस और टीएमसी को साथ आना चाहिए।'

पूर्व केंद्रीय मंत्री एस एस अहलूवालिया के नेतृत्व में भाजपा का एक तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल शनिवार को हिंसा प्रभावित भाटपारा पहुंचा जहां दो समूहों के बीच संघर्ष में दो लोगों की जान चली गई थी जबकि कई अन्य घायल हो गए थे।

पं बंगाल में हिंसा से स्थिति अब भी तनावपूर्ण बनी हुई है। उत्तर परगना के भाटपारा शहर में हुई हिंसा के बाद अब बीजेपी ममता बनर्जी को घेरने में जुट गई है। भाटपारा हिंसा के विरोध में  बीजेपी के तीन सांसदों का दल शनिवार

पश्चिम बंगाल सुलग रहा है।दो समूहों के बीच झड़पों ने पश्चिम बंगाल में लगातार तनाव के हालात बनाए हुए है। पश्चिम बंगाल में सड़कों पर विरोध् प्रदर्शन का शोर पूरे देश में पहुंच रहा है।

लोकसभा चुनाव के बाद भी पश्चिम बंगाल में हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है। राज्य के उत्तर 24 परगना जिले के भाटपाड़ा में टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई है। इस दौरान दोनों पक्षों के बीच बम भी चले और गोलीबारी भी हुई।

डॉक्टर के साथ मारपीट के बाद पूरे देश में आक्रोश है। देशभर के जूनियर डॉक्टर घटना के विरोध में हड़ताल पर हैं। इसका असर दिख रहा है। बीएचयू में भी जूनियर डॉक्टर्स कु हड़ताल के चलते व्यवस्था चरमरा गई है।

आज जहां पूरी दुनिया फादर्स डे मना रही है वहीं एक पिता ने अपने बच्चे को खो दिया। हाथों में बच्चे का शव लिए एक पिता की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। यह तस्वीर पश्चिम बंगाल  की बताई जा रही है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शाम 6 बजे प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से हड़ताली डॉक्टरों से काम पर लौटने की अपील की। उन्होंने कहा है कि हजारों लोग चिकित्सा उपचार की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

पश्चिम बंगाल में बढ़ती राजनीतिक हिंसा और डॉक्टरों की हड़ताल को लेकर केंद्र सरकार ने ममता बनर्जी सरकार से रिपोर्ट मांगी है और पूछा है कि इन घटनाओें को रोकने के लिए राज्य सरकार ने क्या कदम उठाए हैं। केंद्र सरकार ने एडवाइजरी भी जारी की है।