white house

अमेरिका में अफ्रीकी मूल के अश्वेत जॉर्ज की मौत के बाद कई शहरों में हिंसक प्रदर्शन का दौर चल रहा है। हाल में व्हाइट हाउस के बाहर शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रहे लोगों पर रबड़ की गोलियां और आंसू गैस के गोले छोड़े गए।

व्हाइट हाउस के बाहर हालात बिगड़ने के बाद सुरक्षा अधिकारी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को एक खुफिर अंडरग्राउंड बंकर में लेकर चले गए। ट्रंप को वहां करीब एक घंटे तक रखा गया। इस बंकर के अलावा भी व्हाइट हाउस में कई सुरंगें हैं, जहां से इमरजेंसी में प्रेसिडेंस और उनकी फैमिली को बाहर निकाला जा सकता है।

अमेरिका में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। ऐसा हम नहीं बल्कि वहां से आ रही खबरें ये बातें कह रही हैं। दरअसल अमेरिका में एक अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के बाद से लोग सड़कों पर आ गये है।

अमेरिका ने WHO से मतभेद खत्म करने के संकेत दिए हैं। हालंकि इसके लिए अमेरिका ने कुछ शर्ते भी रखी है। अमेरिका की ओर से जारी बयान में कहा गया कि संस्था से जुड़ने पर देश विचार कर सकता है लेकिन...

अमेरिका में अश्वेत अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद प्रदर्शन ने उग्र रूप ले लिया है। अमेरिका के 30 शहर हिंसा की आग में झुलस गए हैं। इसकी आंच रविवार को व्हाइट हाउस तक पहुंच गई।

अमेरिका चीन की इस हरकत पर अब भारत के साथ खड़ा हुआ है। ऐसा में अमेरिका ने चीन की हरकतों को पूरी दुनिया के खिलाफ एक ख़तरा करार दिया है।

कोरोना वायरस से राहत पाने के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प को अब भारत की परंपरा की तरफ मुड़ना पड़ा और पवित्र वैदिक शांति पाठ की याद आई है। यहां राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने महामारी के इस दौर में राष्ट्रीय सेवा दिवस के मौके पर व्हाइट हाउस में सभी के स्वास्थ्य, सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रार्थना सभा का आयोजन कराया।

अमेरिका के उप-राष्ट्रपति माइक पेंस के कार्यालय में काम करने वाली एक महिला की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। महिला का नाम केटी मिलर है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के इतना करीब कोरोना वायरस पहुँच जाने के बाद व्हाइट हाउस में हड़कंप मच गया। मिली जानकारी के मुताबिक, ट्रंप की सेवा में तैनात पर्सनल सेवक में कोरोना पाया गया।

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में तबाही मचा रखी है। इस जानलेवा महामारी से निपटने के लिए अमेरिका ने भारत से हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाई की मदद मांगी थी। इसके बाद भारत ने अमेरिका की मदद की और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा भेजी थी।