who

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने कहा कि कोरोना वैक्सीन विकसित करने के बाद उसे वैश्विक स्‍तर पर उपलब्‍ध कराने में भारत अहम भूमिका निभाएगा। 

कोरोना वायरस एक मौसमी बीमारी नहीं है जो मौसम बदलने के साथ कम हो जाएगी। हमें ज्यादा सतर्क और सुरक्षा के नियमों का पालन करने की जरूरत है। ये बातें विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की प्रवक्ता मार्गरेट हैरिस ने एक वर्चुअल ब्रीफिंग में कही।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के वरिष्ठ अधिकारी माइक रयान ने वैक्सीन का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे लोगों को झटका देते हुए कहा कि वैक्सीन का पहला उपयोग साल 2021 की शुरुआती महीनों में हीं सम्भव है

कोरोना वायरस से बुरी तरह जूझ रहे महाशक्तिशाली देश अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर फिर से हल्ला बोला है। ऐसे में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) हेड को चीन ने खरीद लिया था।

कोरोना को लेकर चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन की मिली भगत अब धीरे धीरे उजागर होने लगी है। कठघरे में खड़ा चीन अब बेनकाब होता दिख रहा है।

पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस की चपेट में है। अमेरिका, इटली, पाकिस्तान और भारत में कोरोना वायरस के मामले तेजी के साथ बढ़ते ही जा रहे हैं। इसके साथ ही मौत का आंकड़ा भी लगातार बढ़ता ही जा रहा है।

WHO ने साथ ही इस बात कि भी आशंका जताई है कि लम्बे समय के कोरोना संक्रमित व्यक्ति के आस पास की हवा के संपर्क में आने से क्रोना होने कि संभावना बढ़ सकती है।

लोग कहने लगे कि दुनिया की अर्थव्यवस्था को बर्बाद करने के बाद डब्लूएचओ अब उल्टी बात कह रहा है।

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है। भारत और अमेरिका समेत कई बड़े मुल्क इसकी चपेट में हैं। इन देशों में नये मरीजों के मिलने के साथ ही मौत का आंकड़ा भी बढ़ता ही जा रहा है। कोरोना पर रोज नई- नई बातें सामने आ रही है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन(डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना वायरस के हवा से फैलने की बात स्वीकार करने के बाद इसकी रोकथाम की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाया है।