world health organization

दुनियाभर के देशों को अगली महामारी से पहले पब्लिक हेल्थ में काफी पैसा निवेश करना चाहिए नहीं तो कोरोना जैसे हालत की आशंका है।

कोरोना दुनियाभर में कहर बरपा रहा है। इसकी रोकथाम के लिए दुनिया के तमाम बड़े वैज्ञानिक की कोशिशें भी लगातार फेल हो रही हैं।

WHO प्रमुख ने लोगों से मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग रखने, हाथ धोने और टेस्ट कराने जैसे उपायों को जारी रखने का आग्रह किया। उन्होंने कहा, 'रास्ता लंबा है और कोशिशें लगातार जारी रखने की जरूरत है।'

कोरोना वायरस के खतरा दुनियाभर में बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में कुछ दिन पहले दुनिया भर के तमाम एक्सपर्ट्स की सलाह के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ये स्वीकार किया था कि करोना वायरस हवा में भी मौजूद हो सकता है।

एशिया की सबसे बड़ी झुग्गीबस्ती धरावी को लेकर अप्रैल और मई महीने में कहा जा रहा था कि यहा महामारी विस्फोट होगा। धारावी में जिस तेजी से कोरोना केस फैलने लगे थे उसने राज्य के साथ केंद्र सरकार की भी चिंता थी। केंद्र सरकार ने यहां विशेषज्ञों की टीम भेजी थी।

पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण के मामलों की संख्या 69 लाख के करीब पहुंच गई है जबकि मृतकों का आंकड़ा भी 4 लाख होने वाला है। अब अमेरिका के बाद महामारी का केंद्र ब्राजील बनता जा रहा है।

WHO की तरफ से निराश कर देने वाली खबर आयी है। बता दें WHO के अधिकारी ने दवा किया है कि कोरोना वायरस महामारी खत्म होने में वक्त लगेगा।

चीन से शुरू हुआ कोरोना वायरस दुनिया के बाकी देशों में भी फैल गया। लेकिन आश्चर्य की बात यह रही कि चीन के पड़ोस में स्थित ताइवान ने इसे अपने यहां नहीं फैलने दिया। 

दुनियाभर में हर साल 8 लाख लोग आत्महत्या करते हैं। यानी हर 40 सेकंड में एक व्यक्ति अपनी जान ले लेता है। आत्महत्या करने वालों में 15 से 29 साल के युवा की संख्या सबसे ज्यादा है।

नई दिल्ली: उम्र बढ़ने के साथ ह्रदय रोग का खतरा बढ़ता जाता है। युवावस्था से ही स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर इस बीमारी से बचा जा सकता है, जो विश्वभर में पुरुषों और महिलाओं दोनों की मौत के मामले में पहले स्थान पर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, कोरोनरी ह्रदय रोग, दिल का दौरा और …