Wuhan

चीन के वुहान में कोरोना का कहर अभी थम नहीं है वहीं यहां पर कोरोना मरीजों का इलाज करते समय यहां के दो डॉक्टर यी फैन और हू वाइफैंग कोरोना से संक्रमित हो गए।

कोरोना वायरस सबसे पहले चीन के हुबेई प्रांत के वुहान में फैला था, लेकिन अब चीन ने इस पर काफी हद तक काबू पा लिया है। इसी बीच चीन के विशेषज्ञों ने दावा किया है कि वायरस चीन समेत दूसरे देशों पर नवंबर में फिर से तबाही मचा सकता है।

वायरस पर रिसर्च करने के लिए चीन की सबसे बड़ी लैब भी है। लेकिन अब इस संदिग्ध लैब के अमेरिकी कनेक्शन का बड़ा खुलासा हुआ है। इस लैब का क्या है अमेरिका से संबंध, आइये जानते है...

चीन भले ही वुहान में सब कुछ सामान्य होने की बात कहे लेकिन असलियत में ऐसा नहीं है। कोरोना के नए केस अब नहीं आ रहे हैं लेकिन दहशत ज्यों कि त्यों है। सिर्फ वुहान ही नहीं बल्कि राजधानी बीजिंग का भी यही हाल है।

कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से चीन के वुहान में 23 जनवरी को लॉकडाउन का ऐलान किया गया था। 76 दिन के लॉकडाउन को 8 अप्रैल को खत्म किया गया है। ऐसे में चीन में लॉकडाउन के खत्म होने के बाद कई लोगों की कहानियां सामने आ रही हैं.

चीन के वुहान शहर से हैरान कर देने वाली तस्वीरें सामने आई हैं। 76 दिन बाद लॉकडाउन हटने पर आज अचानक से भारी भीड़ सड़कों की तरफ भागती हुई नजर आई। यातायात सामान्य दिखा। इस बीच लाखों लोग आज वुहान शहर को छोड़कर जा रहे हैं।

कोरोना वायरस पाकिस्तान में भी तेजी से फैल रहा है। उसके लिए अपने मरीजों का इलाज करना भारी पड़ रहा है। ऐसे में चीन उसकी मदद के...

कोरोना वायरस ने आम और खास सबको चपेट में ले लिया है। अब तक पूरी दुनिया में करीब 7 लाख लोग इस  वायरस की चपेट में आ चुके हैं। वहीं 32 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कोरोना वायरस से पीड़ित दुनिया का पहला मरीज कौन है? दुनिया में कोरोना वायरस के पहले मरीज के तौर पर चीन की 57 साल की एक महिला की पहचान हुई है।

जिस शहर से कोरोना वायरस निकल कर पूरी दुनिया में फैल चुका है, चीन के उस वुहान शहर में ज़िंदगी नॉर्मल हो गई है क्योंकि अब ये शहर “कोरोना मुक्त” हो चुका है। दो महीने के लॉकडाउन के बाद एक करोड़ दस लाख निवासियों के लिए ज़िंदगी पटरी पर लौट आई है।

कोरोना वायरस ने पूर देश में हाहाकार मचा हुआ है जिसकी वजह से अमेरिका के शहर न्यूयॉर्क में अब वुहान जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है। न्यूयॉर्क के मेयर बिल डे बलासियो का कहना है कि अब हम इस संकट का केंद्र बन गए हैं।