zodiac sign

माह-पौष,तिथि – नवमी,पक्ष – कृष्ण,वार – शुक्रवार,नक्षत्र – हस्त,सूर्योदय – 07:08, सूर्यास्त – 17:28, चौघड़िया चर – 07:13 से 08:30, लाभ – 08:30 से 09:46,अमृत – 09:46 से 11:02,शुभ – 12:19 से 13:35

माह – पौष, तिथि – पंचमी पक्ष – कृष्ण, वार – सोमवार, नक्षत्र-अश्लेषा, सूर्योदय-7.06, सूर्यास्त-17.26, चौघड़िया- लाभ – 07:11 से 08:27, अमृत – 09:44 से 11:00, शुभ – 13:33 से 14:49, चर – 14:49 से 16:06

तिथि-द्वितीया, नक्षत्र- पुनर्वसु, सूर्योदय- 07.09सूर्यास्त-17.21 पक्ष-कृष्ण, माह-पौष, वार- शनिवार। आज किसी भी पीपल के पेड़ के नीचे दीप दान करें।

माह – पौष,तिथि – प्रतिपदा ,पक्ष – कृष्ण,वार – शुक्रवार,नक्षत्र, राहुकाल – 10:57:29 से 12:15:05 तक,सूर्योदय – 07:04,सूर्यास्त – 17:25,चौघड़िया चर – 07:09 से 08:26,लाभ – 08:26 से 09:42,अमृत – 09:42 से 10:59,शुभ – 12:15 से 13:32। शुक्रवार से पौष मास की शुरुआत हो रही है इस दिन से सूर्य को नियमित जल चढ़ाएं व एक महीना तक सूर्य मंत्र का जप करें।

ब्राह्मांड में स्थित 9 ग्रहों की स्थिति पर हमारा जीवन निर्भर करता है। इन ग्रहों की स्थिति पर हर माह बदलती रहती है। सारे ग्रहों का अपना अलग-अलग समय है। विवेक और बुद्धि का कारक बुध ग्रह दिसंबर से तुला से वृश्चिक में प्रवेश कर गए है। जब कोई ग्रह गोचर करता है तो उसका व्‍यक्‍ति के जीवन पर असर पड़ता है।

माह- मार्गशीर्ष, तिथि-अष्टमी, पक्ष-शुक्ल, वार-बुधवार,नक्षत्र-शतभिषा,सूर्योदय-6.58, सूर्यास्त-17.23,चौघड़िया-लाभ-07.03-8.20, अमृत-08.20-9.37,शुभ-10.54-12.11,चर-14.45-16.03

शनि देव को न्याय का देवता कहा जाता है। शनि को सभी ग्रहों में न्यायाधीश का पद मिला हुआ है। शनि अच्छे कर्म करने वालों के अच्छा फल और बुरे काम करने वालों को दंड देते हैं। शनिदेव सूर्य और माता छाया के पुत्र हैं। शनिवार का दिन शनि की आराधना के लिए सबसे बढ़िया है।

माह – मार्गशीर्ष, तिथि – चतुर्थी ,पक्ष – शुक्ल,वार – शनिवार,नक्षत्र – पूर्वाषाढ़ा , सूर्योदय – 06:55 सूर्यास्त – 17:23,चौघड़िया शुभ – 08:17 से 09:34,चर – 12:10 से 13:27,लाभ – 13:27 से 14:45,अमृत – 14:45 से 16:02।

माह – मार्गशीर्ष,  तिथि – प्रतिपदा ,पक्ष – शुक्ल,वार – बुधवार,नक्षत्र – अनुराधा ,सूर्योदय – 06:52,सूर्यास्त – 17:24,राहुकाल – 12:08:32 से 13:27:28 तक,चौघड़िया लाभ – 06:57 से 08:15,अमृत – 08:15 से 09:33,शुभ – 10:51 से 12:08,चर – 14:44 से 16:02।

माह – मार्गशीर्ष,तिथि – त्रयोदशी,पक्ष – कृष्ण,वार – रविवार,नक्षत्र – पुष्य ,सूर्योदय – 06:50,सूर्यास्त – 17:24, चौघड़िया चर – 08.138 से 09.31,लाभ – 9.31 से 10.49, अमृत – 10.49 से 12.08, शुभ – 1.26 से 14.44।