Top

SIM केवाईसी के नाम पर हो रहा साइबर फ्रॉड, जानिए इसके बारे में सबकुछ

SIM Cyber Crime : मोबाइल SIM की KYC के जरिए शातिर इस साइबर क्राइम को अंजाम दे रहे हैं।

Network

NetworkNewstrack NetworkShraddhaPublished By Shraddha

Published on 8 Jun 2021 11:15 AM GMT

साइबर ठग सिम की KYC को लेकर लोगों का खाता साफ कर लेते हैं।
X

साइबर क्राइम (डिजाइन फोटो - सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

SIM Cyber Crime : देश में साइबर क्राइम (Cyber Crime) के मामले दिन पर दिन बढ़ते नजर आ रहे हैं। शातिर ठगी करने के नए - नए तरीके आजमा रहे हैं। अब मोबाइल SIM की KYC के जरिए शातिर इस साइबर क्राइम को अंजाम दे रहे हैं। यह उन्हीं लोगों को KYC के लिए फोन करते हैं जिन्होंने बीते दिनों अपना नंबर पोर्ट कराया है।

आपको बता दें कि इसके साथ इन लोगों की सारी जानकारी होती है। जैसे कब नंबर पोर्ट कराया, पहला नंबर किस कंपनी का था और अब किस कंपनी का सिम चला रहे हैं। इन ठगों से बचने के कई उपाय है तो जानते हैं कैसे बचा जाए इस ठगी से।

साइबर ठग SIM की KYC पूरी न होने के चलते SIM बंद करने की आखिरी तारीख मेंशन करके एसएमएस भेजते हैं। पहले लोग इस एसएमएस को इग्नोर करते हैं। लेकिन जिस दिन साइबर ठगो के अनुसार सिम बंद होने की आखिरी तारीख होती है उसी दिन यूजर्स के पास कस्टमर केयर के नाम से फोन आता है। और ऑनलाइन KYC को पूरा करने को कहा जाता है। अगर आप इसको पूरा न करने की बात करते हो तो सिम को बंद करने की बात कही जाती है।

साइबर ठग सिम की KYC को लेकर लोगों का खाता साफ कर लेते हैं। इन ठगों से बहुत ही सावधान रहने की जरुरत है। बताया जाता है कि यह ठग SIM की KYC के चलते Ewallet का ऐप डाउनलोड करके ट्रांजेक्शन के लिए कस्टमर अपना क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड नंबर फीड करते हैं जिसके चलते यह ठग लोगों के अकाउंट को साफ कर देते हैं।

Shraddha

Shraddha

Next Story