पर्यटन

अगर आपको कहीं घुमने जाना हो तो आप हमेशा सोचते हैं किसी अच्छी और शांत जगह पर जाएं। हम आपके लिए दुनिया के टॉप 10 शहरों के नाम लाए हैं।

 कहते है कि जिसकी किस्मत बदलने वाली हो उसके लिए पूरी कायनात एक हो जाती है। कुछ ऐसा हा जयपुर के इन गांवों के साथ हुआ । जयपुर के ये गांव  जहां गुमनामी व दयनीय स्थिति से गुजर रहे थे अचानक यहां सब बदल गया। ये सब हुआ महाराष्ट्र से आएं कांग्रेस के विधायकों की वजह से।

हिन्दूओं के धर्मग्रंथों में अयोध्या का वर्णन है। वेदों, पुराणों और उपनिषदों सहित अन्‍य ग्रंथों में इस महान नगरी कीर्ति का यशगान है। रामायण  के अनुसार , मर्यादापुरुषोत्‍तम श्रीराम की ये जन्‍मभूमि है। इस नगर को स्वयं मनु ने बसाया था, ऐसा महर्षि वाल्‍मीकि ने महाकाव्‍य रामायण में लिखा है।

आज से अब सिख श्रद्धालु करतारपुर जाकर सिखों के इस पवित्र धाम का दर्शन कर पाएंगे। श्रद्धालुओं का पहला जत्था रवाना हो चुका है। जिस पवित्र धाम के दर्शन के श्रद्धालु इतने उत्साहित थे। जानते हैं करतारपुर गुरुद्वारा सिखों के लिए क्यों इतना पवित्र है ...

सबने प्रयत्न किया लेकिन कोई इस दुर्ग को जीत न सका । सबने कोशिश की लेकिन कोई इसके आकर्षण और भव्यता का रहस्य अब तक जान न सका है । अभी तक करीब पंद्रह सौ साल का वक़्त गुजर चुका है ।

हमारी पृथ्वी पर हर तरह के जीव-जंतु मौजूद है। कुछ को लोगों ने देखा है और बहुत तो ऐसे भी हैं जिन्हें शायद आज तक देखा भी न गया हो। हमारे आस-पास में घूमते हुए, अरबों जानवरों और पौधों के जीवन का घर है।

बड़ोग स्टेशन में एक बार एक ब्रिटिश आर्मी के इंजीनियर की काफी बेइज्जती की गई थी। दरअसल, उन्होंने कुछ गलती कर दी थी जिसके कारण उन्हें काफी सुनाया गया था। यही नहीं, सरकार ने तब उनपर फाइन भी लगाया था।

फुल इंजॉय करने और आरामदायक समुद्र के किनारे कुछ समय बिताने के लिए लोग आमतौर पर गोवा को ही चुनते हैं। गोवा की सड़कों पर घूमना और खुले माहौल में दिन व्यतीत करने के लिए पर्यटक झट-पट गोवा के लिए टिकट करा लेते हैं।

इस किले में पौराणिक कथा में इस स्थान का जिक्र मिलता है। जैसे प्राचीन साहित्य में चरणाद्रि, नैनागढ़ आदि नामों से मिलता है। यहां एक बहुत सुंदर आकर्षण है गंगा-तटवर्ती व पहाड़ी भव्य किला, जिसे राजा विक्रमादित्य ने अपने भाई राजा भर्तृहरि के लिए बनवाया था।

दिवाली में ज्यादातर लोग बाहर ना जाकर घर में रहकर लक्ष्मी का स्वागत करते हैं।क्योंकि दिवाली पूरे परिवार के साथ मनाना एक अच्छा लगता हैं। लेकिन अग अपने परिवार के साथ ही ऐसी जगह पर जाए जहां का दिवाली सेलेब्रेशन बहुत ख़ास होता हैं और सभी को पसंद है तो घूमने वालों के लिए दिवाली का समय भी भक्तिमय व यादगार बनेगा।