पर्यटन

वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम हर दो साल में अपनी एक रिपोर्ट जारी करता है। भारत की बात करें तो व्यापार और पर्यटन क्षेत्र में देश ने दक्षिण एशिया के अन्य देशों के मुकाबले जबरदस्त काम किया है।

पोंगल एक प्रकार का व्यंजन है जिसे गुड़, नारियल और केले के निश्चित मात्रा को मिलाकर बनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह देवी का पसंदीदा पकवान है। धार्मिक कार्य प्रात:काल ही शुरु हो जाते हैं और दोपहर तक चढ़ावा तैयार कर दिया जाता है।

लखनऊ : अभी तक आपने श्रीराम भक्त हनुमान के कई मंदिरों के बारे में देखा और सुना होगा लेकिन आज हम बजरंग बली एक ऐसे अनूठे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आप भी सुनकर भौचक्के रह जाएंगे। हनुमान जी का यह अनूठा मंदिर है गुजरात के बोटाद शहर के …

इसके अलावा चेतक पार्क,दमदमा साहिब, बठिंडा झील, मैसर खाना, प्राणि उद्यान, धोबी बाजार और पीर हाजी रतन की मज़ार हैं जो पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र हैं और अगर आप बठिंडा में एक शानदार जगह रहने के लिए चाहते हैं, तो आप बाहिया फोर्ट जा सकते है।

आज की बढ़ती टेक्नोलॉजी की दुनिया में भगवान भी भक्तों की तरह से अपडेट रहकर उनकी मुरादें पूरी कर रहे हैं। जी हां, इंदौर के जूनी क्षेत्र के चिंतामन गणेश मंदिर में भक्त मोबाइल फोन से गणपति बप्पा से अपनी प्रार्थना करते हैं और भगवान भी उनकी मनौतियां पूरी करते हैं।

देवाधिदेव शंकर के इस अपमान से लज्जित होकर गौरा देवी इस यज्ञ के दौरान सती हो गई थी और भगवान शंकर उनके पार्थिव शरीर को ही गोद में उठा कर तीनों लोकों का भ्रमण कर रहे थे। तब भगवान विष्णु ने भगवान शंकर का मां गौरी से ध्यान हटाने के लिए अपने सुदर्शन चक्र से मां गौरी के पार्थिव शरीर के टुकड़े कर दिया था।

वैसे तो दुनिया में घुमने के लिए तमाम जगह है पर जिन्हें स्काई डाइविंग का शौक  है उनके लिए कुछ ऐसी जगह होती है जहां पर जाकर उन्हें स्काई दैविंह करना  अच्छा लगता है। स्काई डाइविंग करने से शारीरिक व मानसिक थकान दूर होती है और साथ ही कुछ नया साहसिक करने का मन करता है। कुछ ऐसी ही जग,

भाद्रपद कृष्ण अष्टमी को कृष्ण जन्माष्टमी  के तौर पर मनाया जाता हैं। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था, इसलिए चारों ओर खुशियाँ मनाई जाती हैं। इस दिन देश के सभी कृष्ण मंदिरों में पूजा-अर्चना और प्रसाद वितरण किया जाता हैं। देश में मथुरा-वृंदावन के अलावा एक मंदिर ऐसा है जहां जन्माष्टमी के दिन आधी रात को भगवान कृष्ण दर्शन देते हैं।ये हैं द्वारिकाधीश मन्दिर ।

अगर आप खाने-पीने के बहुत शौकीन है तो ये जगह आपके लिए ही है. नूडल्स, सोबा, सुसी, मिस सूप, डंपलिंग्स और नॉन वेजेटेरियन मोमोस, जापान की जान है यहां का खाना. खूबसूरत फूल, महल और आकर्षक व्यू सब कुछ यहां पर है।

 शाम होते ही निधिवन को बंद करके लोगों को यहां से बाहर निकाल दिए जाते हैं क्योंकि माना जाता है कि यहां प्रत्येक रात को श्री कृष्ण आकर गोपियों संग रासलीला करते हैं। यदि कोई व्यक्ति इन्हें देखता है तो वह अपना मानसिक संतुलन खो बैठता है या उसकी मृत्यु हो जाती है।