प्रकृति के साथ बिताना चाहते हैं समय तो जरुर जाएं वाल्मीकि नेशनल पार्क

नई दिल्‍ली: घूमने फिरने का शौक तो हर किसी का होता है। लेकिन आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग इतना बिजी हो गए हैं कि उनके पास इसके लिए समय निकालना मुश्किल हो गया है। लेकिन अपने बिजी शेड्यूल से थोड़ा टाइम निकालकर कुछ पल प्रकृति के साथ बिताना चाहते हैं तो हम आपको बताते है एक ऐसे खूबसूरत नेशनल पार्क के बारे में जहां आप मजेदार ट्रिप का लुफ्त उठा सकते हैं।

Tourism: 50 हजार में सिंगापुर तो 25 हजार में मनाली घूमने का ऑफर, मौका छूट न जाए

हिमालय पर्वत की गंडक नदी से घिरा हुआ होने के कारण इनमें सबसे अलग है। वाल्मीकि नगर, बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के सबसे उत्तरी भाग में नेपाल की सीमा के पास बेतिया से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह एक छोटा कस्‍बा है और ज्यादातर वन क्षेत्र के अंदर है।

साल 1990 में हुआ था उद्घाटन

लेना चाहते हैं हॉन्‍टेड प्लेसेस के भरपूर मजे, तो आपके लिए है ये खबर

वाल्मीकि नेशनल पार्क का उद्घाटन साल 1990 में हुआ था। 900 गज में फैला यह पार्क नेपाल के रॉयल चितवन नेशनल पार्क और पश्चिम में हिमालय पर्वत की गंडक नदी से घिरा हुआ है। यहां लुप्तप्राय प्राणी पाए जाते हैं, जैसे कि चीता। इसके अलावा यहां बाघ, स्लॉथ बीयर, भेडिए, हिरण, सीरो, चीते, अजगर, पीफोल, चीतल, सांभर, नील गाय, हाइना, भारतीय सीवेट, जंगली बिल्लियां, हॉग डीयर, जंगली कुत्ते, एक सींग वाले राइनोसिरोस तथा भारतीय भैंसे कभी-कभार चितवन से चलकर आ जाते हैं। इसे जानवरों की मार्निंग वॉक के तौर पर देखा जाता है।

कैसे जाएं

वाल्मीकि नेशनल पार्क घूमने जाने वाले लोग यहां हवाईजहाज के जरिए पहुंच सकते हैं। यहां सबसे पास में मौजूद एयरपोर्ट पटना है जोकि पार्क से करीब 250 किमी की दूरी पर स्थित है। इसके अलावा पर्यटक ट्रेन के द्वारा भी यहां जा सकते हैं। यहां से सबसे करीब रेलवे स्‍टेशन नरकटियागंज और बगाह है। अगर आप मार्ग द्वारा जाना चाहते हैं तो पटना से 275 किमी, बेतिया से 80 किमी और गोरखपुर से 125 किमी की दूरी पर ये जगह सड़क मार्ग से पड़ेगी।

दुनिया के 5 ऐसे अनोखे देश, जहां कभी नहीं होती रात

इन दिनों जाएं घूमने  

वाल्मीकि नेशनल पार्क घूमने के लिए सबसे अच्‍छा समय नवंबर से मार्च के बीच का होता है। इस दौरान यहां का मौसम काफी सुहावना होता है। ऐसे में आप यहां प्रकृति के करीब रहकर काफी कुछ सीख सकते हैं। जबकि गर्मियों में यहां भारी बारिश होती है।