Top

'भूखा न सोए कोई, रोटी बैंक हरदोई' की मुहिम, हर जरूरतमंद का भरे पेट

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 14 Feb 2016 8:26 AM GMT

भूखा न सोए कोई, रोटी बैंक हरदोई की मुहिम, हर जरूरतमंद का भरे पेट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोई: शास्त्रों में भी वर्णित है 'सेवा परमो धर्मः'। सेवा के इसी भाव को हरदोई के कुछ युवकों ने सार्थक करने का प्रयास किया है। बुंदेलखंड में भूखे लोगों तक भोजन पहुंचाने की 'रोटी बैंक' की मुहिम की तर्ज़ पर हरदोई के कुछ युवक भी सप्ताह के प्रत्येक शनिवार को 'भूखा न सोए कोई रोटी बैंक हरदोई' के नारे के साथ मुहिम की शुरुआत की है। करीब 15 युवाओं की टोली हर शनिवार गरीबों को घर की बनी रोटियां खिलाने में जुटी है। इस प्रयास को जैसे-जैसे सफलता मिल रही है इसे रोज़ करने पर भी विचार किया जा रहा है।

15 युवाओं की टीम करती है काम

हरदोई को देश के पिछड़े जिलों में गिना जाता है। छात्र राजनीति से जुड़े विक्रम पांडेय ने करीब 15 युवा साथियों के साथ मिलकर 'रोटी बैंक हरदोई' के नाम से इस मुहिम की शुरुआत की है। इसकी प्रेरणा उन्हें देश के अन्य जिलों में चलाए जा रहे रोटी बैंक से मिली है। संगठन ने हालांकि अभी इसकी शुरुआत सिर्फ शनिवार के दिन से की है। रोटी वितरण का काम रात नौ बजे तक किया जाता है। इसके तहत भिखारियों, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन और अस्पताल में जरूरतमंदों को खिलाया जाता है।

टोलियां बना पहुंचाते हैं जरूरतमंदों तक

'हरदोई रोटी बैंक' के संयोजक विक्रम पांडेय के अनुसार वह बिना किसी सरकारी सहायता के लोगों के संगठित प्रयास से किया जा रहा है। इसमें उनकी टीम शहर के वार्डों, मोहल्लों से टोलियां बनाकर रोटियां इकट्ठी करती है। उसके बाद उनके साथ सब्जी, आचार, मिर्च, गुड़ रखकर सफाई के साथ पैकेटों को जरूरतमंदों तक पहुंचाया जाता है।

मांगते हैं दो मिलती है दस रोटियां

सीमित संसाधनों के जरिए 'रोटी बैंक हरदोई' अभी सप्ताह में एक दिन ही इस काम को अंजाम दे रहा है। अनुपम पांडेय के मुताबिक अभी यह संगठन हर शनिवार को करीब 16 से 18 सौ रोटियां जमा कर रहा है। शहर के करीब 350 से अधिक घर इस मुहिम से जुड़ गए हैं। रोटी बैंक के लोग प्रत्येक घर से 2 रोटी ही देने की बात कहते हैं लेकिन मदद के नाम पर चार से दस रोटियां तक मिल रही है। सब्जी, गुड़, प्याज, मिर्च और आचार की व्यवस्था टीम अपने संसाधनों से करती है।

कम समय में मिली बड़ी सफलता

इसी महीने की 6 फ़रवरी को हरदोई के चंद युवकों ने 'रोटी बैंक हरदोई' की शुरुआत की। टीम के लोगों का कहना है कि कम समय में जिस तरह से इस अभियान को सफलता मिल रही है उससे तो यही लगता है की जल्दी ही 'रोटी बैंक हरदोई' रोजाना जरूरतमंदों तक भोजन पहुंचती नजर आएगी।

अन्य फोटो देखने के लिए नीचे की स्लाइड पर क्लिक करें

[su_slider source="media: 9271,9270,9269,9268,9267,9266,9265,9264" width="620" height="440" title="no" pages="no" mousewheel="no" autoplay="0" speed="0"] [/su_slider]

Newstrack

Newstrack

Next Story