Top

...तो क्या जयललिता इस तमिल सुपरस्टार को बना गयी हैं उत्तराधिकारी !

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 Dec 2016 2:23 AM GMT

...तो क्या जयललिता इस तमिल सुपरस्टार को बना गयी हैं उत्तराधिकारी !
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : तमिलनाडु की पूर्व सीएम जयललिता (अम्‍मा) के निधन के बाद हैरान कर देने वाली खबर सामने आ रही है। सूत्रों के मुताबिक एआईएडीएमके (AIADMK) चीफ जयललिता अपनी बीमारी से बहुत पहले ही अपना उत्तराधिकारी तय कर चुकी थीं। जैसे एमजीआर ने जया को राजनीति समझने का मौका दिया वैसे ही अम्मा अपने उत्तराधिकारी को मौका देना चाहती थी। उनकी वसीयत पार्टी के कुछ खास नेताओं के पास ही है और समय आने पर नाम जनता के सामने लाया जाएगा।

जयललिता को अपनी जानलेवा बीमारी के बारे में बहुत पहले से ही पता था। इसलिए उन्होंने पहले ही वसीयत तैयार करवा ली थी जिसमें उनकी अपनी संपत्ति और पार्टी के बारे में विस्तार से बताया गया है।

सूत्रों के मुताबिक ये अम्मा की ही मर्जी थी की उनकी मौत के बाद ही पन्‍नीरसेल्वम सबसे पहले मुख्यमंत्री पद की शपथ लें। ताकि पार्टी में कोई विवाद पैदा न हो, जैसा एमजीआर की मौत के बाद उनमें और एमजीआर की पत्नी के बीच हुआ था। जब तक चुनाव नहीं होते पन्‍नीरसेल्वम सरकार और शशिकला पार्टी को अपने हाथ में रखे और जब अगला विधानसभा चुनाव आए तो, अम्मा के उत्तराधिकारी को जनता के सामने खड़ा कर दिया जाए।

आगे की स्‍लाइड में पढ़ें कौन है उत्‍तराधिकारी...

कौन हो सकता है जयललिता का उत्‍तराधिकारी

सूत्रों ने जो नाम बताया है वो किसी नेता का नहीं है बल्कि जया जैसे ही तमिल फिल्म इंडस्ट्री से है। जिसने जया की तरह ही संघर्ष कर अपना स्थान बनाया और अब फैंस के दिलो में राज भी कर रहा है।

सूत्रों से हमें मिली जानकारी के मुताबिक तमिल सुपर स्टार अजित कुमार ही अम्मा के उत्तराधिकारी हैं। जयललिता को करीब से जानने वाले कहते हैं कि उन्होंने कभी भी किसी को अपनी निजी जिंदगी में प्रवेश नहीं करने दिया। इसलिए कोई भी ये नहीं कह सकता कि उनके दिल में क्या था। वो जब भी कोई निर्णय लेती तो किसी से सलाह नहीं लेती थी और न ही किसी को बताती की वो क्या करने वाली हैं। हो सकता है उन्होंने ऐसा कुछ किया हो क्योंकि अजीत के साथ उनके रिश्ते काफी अच्छे थे। पहला मौका था जब अम्मा किसी की शादी में गयी और इतनी देर तक रुकी, वो कोई और नहीं अजित ही थे।

अजित ही थे जो उनसे कभी भी मिल सकते थे वर्ना उन्होंने तो अपनी सगी भतीजी और उसके पति को 2 घंटे घर के बाहर खड़ा रखा और फिर भी नहीं मिली।

आगे की स्‍लाइड में पढ़े बड़े नेता और अजित के बीच हो चकी है बात...

अजित और बड़े नेताअों बीच हो चुकी बातचीत

सूत्र बताते हैं कि अंदर ही अंदर पार्टी के बड़े नेता और अजित में बात हो चुकी है। अगले चुनाव तक वो पार्टी और सरकार का काम देखने सीखने का प्रयास करेंगे और जरूरत पड़ने पर मौजूद रहेंगे।

फिलहाल अजित ने इस बारे में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है। वैसे अजित ही पहले व्यक्ति थे जो बीमारी के समय सबसे पहले जयललिता को देखने अपोलो पहुचें थे।

बहरहाल ये तो भविष्य के गर्भ में है कि पार्टी और सरकार का क्या होगा। फिलहाल बड़ा सवाल यह है की शशिकला और पनीरसेल्वम कब तक एक दूसरे को पसंद करते हैं क्योंकि शशिकला को पार्टी के अधिकतर विधायक पसंद नहीं करते और न ही कार्यकर्ता ही।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story