×

इस मंदिर में दोष पीड़ित व्यक्ति के दूध चढ़ाने से बदलता है रंग, जानिए वजह?

suman

sumanBy suman

Published on 8 July 2018 6:15 AM GMT

इस मंदिर में दोष पीड़ित व्यक्ति के दूध चढ़ाने से बदलता है रंग, जानिए वजह?
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कीजापेरुमपल्लम: ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु को छाया ग्रह कहते हैं। नौ ग्रहों के निर्माण में इन दो ग्रहों की भी भूमिका है। सभी ग्रहों का अपना-अपना स्वभाव है। इस स्वभाव के कारण ही ये जातक पर अपना प्रभाव डालते हैं। हिन्दू धर्म में हर ग्रह किसी न किसी देवता से संबंधित है।

8 जुलाई:लेंगे छुट्टी के दिन का भरपूर मजा या नहीं, बताएगा आपका राशिफल

हिंदूओं के जितने भी मंदिर हैं उसके पीछे कोई न कोई रहस्य या हैरान करने वाली घटना जरूर है। ऐसा ही एक मंदिर केरल के कीजापेरुमपल्लम गांव में स्थित हैं। इस मंदिर को नागनाथस्वामी मंदिर या केतु स्थल के नाम से जाना जाता है।यह यह मंदिर केतु देव को समर्पित है। यह मंदिर पवित्र कावेरी नदी के तट पर बना है।

9 जुलाई, धर्म के अनुसार है खास, इस दिन प्रात:काल करें ये काम

यह मंदिर केतु को समर्पित है, लेकिन इस मंदिर के मुख्य देव भगवान शिव है। शिव को नागनाथ कहा गया है। इस मंदिर में राहु देव के ऊपर दूध चढ़ाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि जो लोग केतु के दोष से पीड़ित होते हैं, उनके द्वारा चढ़ाया गया दूध नीला हो जाता है। इस मंदिर से संबंधित पौराणिक कथा के अनुसार एक बार ऋषि के श्राप से मुक्ति पाने के लिए केतु ने शिव आराधना प्रारंभ की। शिवरात्रि के पावन दिन पर भगवान शिव ने केतु को दर्शन दिए और उसे श्राप से मुक्ति भी दिलवाई।

suman

suman

Next Story