Top

रेलवे से बर्खास्त लंगूरों को मिली नई जॉब, अब आलीशान होटल और बैंक में ले रहे मजे

साल भर पहले शहर में बंदरों की अधिकता के कारण रेलवे में नौकरी पाने वाले लंगूरों को पीएफए के विरोध के कारण कुछ ही दिनों में नौकरी से हाथ धोना पड़ा था और उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था। तब से बेरोजगार लंगूरों को अब दोबारा रोजगार मिल गया है। इस समय बैंक, स्कूल, हॉस्पिटल, होटलों में नौकरी करके लंगूर मजे से अपना जीवन यापन कर रहे हैं।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 27 Sep 2016 3:59 PM GMT

रेलवे से बर्खास्त लंगूरों को मिली नई जॉब, अब आलीशान होटल और बैंक में ले रहे मजे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

langur

आगरा: एक प्रोजेक्ट के तहत बंदरों के आतंक से ग्रसित आगरा में बंदरो की नसबंदी की जा रही है तो वहीं कुछ जगहों पर बंदरो को भगाने के लिए लंगूर रखे गए है। साल भर पहले शहर में बंदरों की अधिकता के कारण रेलवे में नौकरी पाने वाले लंगूरों को पीएफए के विरोध के कारण कुछ ही दिनों में नौकरी से हाथ धोना पड़ा था और उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था। तब से बेरोजगार लंगूरों को अब दोबारा रोजगार मिल गया है। इस समय बैंक, स्कूल, हॉस्पिटल, होटलों में नौकरी करके लंगूर मजे से अपना जीवन यापन कर रहे हैं।

बता दे , कि आगरा में बंदरों का जबरदस्त आतंक है। सरकारी हॉस्पिटल्स और पुराने शहर के साथ आगरा की वीआईपी रोड फतेहाबाद पर काफी संख्या में बंदरों का आतंक है। पलक झपकते ही बंदर किसी का भी सामान छीन लेते हैं और अगर आपने बाइक खड़ी की तो उसकी गद्दी का कवर फटने में कुछ ही सेकंड लगते हैं।

लंगूरों कर रहे नौकरी

-इन परेशानियों के चलते इस समय आगरा में लोग लंगूरों को नौकरी पर रख रहे हैं क्योकि लंगूर के आते ही बंदर भाग जाते हैं।

-इस समय डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल, स्टेट बैंक, मिशनरी स्कूल समेत आधा दर्जन होटलों में लंगूरों की सेवाएं ली जा रही हैं।

-डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में लंगूर की सेवा दे रहे मुन्ना ने बताया कि दिन भर में तीन जगह उसके राजा लंंगूर की ड्यूटी है।

-एक जगह के 6 हजार रुपए मिलते हैं। लंगूर दो से ढाई घंंटे एक जगह ड्यूटी करता है।

यह भी पढ़ें ... बंदर की वजह से गुल हुई बिजली, 4 घंटे तक अंधेरे में डूबा रहा देश

क्या कहते हैं अधिकारी

-सीएमओ बीएस यादव ने बताया कि उन्होंने किसी को लंगूर रखने की अनुमति नही दी है।

-अगर किसी ने ऐसा किया है तो गलत है। जांच करके कार्रवाई की जाएगी।

-इस संबंध में पीएफए के राजकुमार ने बताया कि लंगूर वाइल्ड लाइफ के अंतर्गत आते हैं।

-लंगूर को बांध कर काम लेना गलत है। अगर लंगूर खुला घूम रहा है तो कोई बात नहीं है।

आगे की स्लाइड्स में देखिए फोटोज

agra-district-hospital

agra-langur

langoor-agra

langur-agra

langur-job

langur-job-agra

langur-monkey-agra

यह भी पढ़ें ... VIDEO: गार्ड की करतूत- बंदर को लाठी से मार किया अधमरा, फिर चौथी मंजिल से फेंका

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story