Top

पाकिस्तान चुनाव: संगीनों के साए में बूथ, गड़बड़ी करने वालों पर निगाह रखेगी सेना

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 24 July 2018 11:06 AM GMT

पाकिस्तान चुनाव: संगीनों के साए में बूथ, गड़बड़ी करने वालों पर निगाह रखेगी सेना
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दिल्ली: पाकिस्तान के आम चुनावों के लिए बुधवार को वोट डाले जाएंगे। चुनाव में किसी भी तरह की गड़बड़ी न हो, इसके मद्देनजर सेना के 3,70,000 जवानों को तैनात किया गया है। साथ ही सैन्य अधिकारियों को मजिस्ट्रेटी अधिकार भी प्रदान किए गये है। ताकि मतदान केंद्रों के अंदर गैरकानूनी हरकतें करने वालों को दंडित किया जा सके।

newstrack.com आज आपको पाकिस्तान चुनाव से जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहा है।

ये भी पढ़ें...पाकिस्तान चुनाव: 342 सीटों के लिए 12 हजार से ज्यादा उम्मीदवार मैदान में, 25 को होगा चुनाव

अबतक 180 लोगों की जा चुकी है जान

पाकिस्तान के आम चुनाव में आतंकियों का भी साया है। इस बार आतंकियों के आत्मघाती हमलों से चुनाव अभियान काफी प्रभावित हुआ है। पिछले दो सप्ताह में हुए हमलों में तीन उम्मीदवारों सहित 180 लोगों की जान जा चुकी है। इसे देखते हुए चुनाव आयोग ने इस बार कड़ी सुरक्षा के बीच चुनाव सम्पन्न कराने का फैसला किया है।

3,70,000 जवानों की तैनाती

पाकिस्तान में चुनाव को शांतिप्रिय ढ़ंग से सम्पन्न कराने के लिए 3,70,000 जवानों की तैनाती की गई है। चुनाव से एक दिन पहले सेना को मौके पर भेज दिया गया है। आज पूरे दिन सेना की निगरानी में वोटिंग से सम्बन्धित से अधिकारियों को बैलेट बॉक्स और चुनाव सम्बन्धी सामग्रियों वितरित की गई। जिसे लेकर वे पोलिंग बूथ के लिए रवाना हो गये। सेना अभी से चप्पे –चप्पे पर निगरानी रखें हुए है। आज सेना ने कई स्थानों पर मार्च भी निकाला था।

सैन्य अधिकारियों को मजिस्ट्रेटी अधिकार

पाकिस्तानी चुनाव आयोग (ईसीपी) ने बताया कि सैन्य अधिकारियों को मजिस्ट्रेटी अधिकार भी प्रदान किए गये है। ताकि अगर कोई मतदान मतदान केंद्रों के अंदर गैरकानूनी हरकतें करने की कोशिश करता हुआ पाया जाता है तो उसे दंडित किया जा सके।

12,570 से अधिक उम्मीदवार मैदान में

आम चुनाव में पाकिस्तान के कई कट्टर मौलवियों सहित 12,570 से अधिक उम्मीदवार संसद और चार प्रांतीय विधानसभाओं के लिए चुनावी मैदान में हैं। नेशनल असेंबली के लिए 3,675 और प्रांतीय विधानसभाओं के लिए 8,895 उम्मीदवार चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे हैं।

पाकिस्तान निर्वाचन आयोग ने कहा है कि नियमों के मुताबिक प्रचार अभियान मध्यरात्रि तक खत्म हो जाना चाहिए, ताकि मतदाताओं को सोच-विचार का समय मिले और वह 25 जुलाई को होने वाले मतदान में हिस्सा लेने की तैयारी कर सकें।

ये भी पढ़ें...PAK के पूर्व PM नवाज शरीफ को हुई 10 साल की सजा, बेटी मरियम भी 7 साल रहेंगी जेल में

पीएमएल (एन) और पीटीआई के बीच मुख्य लड़ाई

पाकिस्तान के चुनाव में मुख्य लड़ाई नवाज शरीफ की अगुवाई वाली पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) और क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान की पार्टी पकिस्तान तहरीक – ए- इंसाफ(PTI)

के बीच है। वहीं बिलावल भुट्टो जरदारी की अगुवाई वाली द पाकिस्तान पिपुल्स पार्टी (PPP) भी रेस में है। आपको बता दें कि पाकिस्तान में कुल 110 राजनीतिक पार्टियां हैं। जिसमें से 30 सक्रिय हैं और अधिकतर चुनाव में अपना भाग्य आजमा रही हैं।

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story