Top

पाकिस्तान चुनाव: निर्वाचन प्रक्रिया में 2100 करोड़ रुपए खर्च, 26 को दोपहर तक आ सकते हैं नतीजे

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 25 July 2018 2:41 PM GMT

पाकिस्तान चुनाव: निर्वाचन प्रक्रिया में 2100 करोड़ रुपए खर्च, 26 को दोपहर तक आ सकते हैं नतीजे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दिल्ली: पाकिस्तान में वोटों की गिनती जारी है। राजनीतिक दलों की मांग के बावजूद पाक चुनाव आयोग ने मतदान का समय नहीं बढ़ाया। आखिरी नतीजे 26 जुलाई को दोपहर दो बजे तक घोषित किए जा सकते हैं। इस बार के चुनावों को पाकिस्तान का अब तक का सबसे महंगा चुनाव कहा जा रहा है। पूरी निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान 2100 करोड़ रुपए खर्च होने की बात कही जा रही है। इसमें उम्मीदवारों का निजी खर्च शामिल नहीं है। बता दे कि इससे पहले 2008 में 184 करोड़ रुपए और 2013 में 473 करोड़ रुपए खर्च हुए थे।

पाकिस्तान चुनाव: आतंकवाद की जमीन पर जम्हूरियत की फसल लहलहाने की उम्मीद

क्वेटा में मतदान केंद्र के बाहर एक की मौत

बुधवार को बलूचिस्तान के क्वेटा में मतदान केंद्र के बाहर ही आत्मघाती हमलावर ने खुद को उड़ा लिया। धमाके में 35 लोगों की मौत हो गई। पाकिस्तान चुनाव आयोग ने कहा कि पूरी निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान 2100 करोड़ रुपए खर्च हो रहे हैं।

इमरान, शाहबाज और बिलावल पीएम पद के दावेदार

इमरान खान प्रधानमंत्री पद के सबसे मजबूत दावेदार बताये जा रहे हैं। वे पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के प्रमुख हैं। वे पार्टी के 22 साल के इतिहास में अब तक की सबसे ज्यादा सीटें जीतने की उम्मीद कर रहे हैं। दूसरे दावेदार हैं पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ। नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम के चुनावी दौड़ से हटने के बाद वे पार्टी का सबसे बड़ा चेहरा हैं। तीसरे दावेदार हैं पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के बिलावल भुट्टो। बिलावल पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के बेटे हैं। तीनों उम्मीदवार एक से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं। बिलावल पहली बार चुनावी मैदान में हैं।

पाकिस्तान चुनाव: आतंकवाद की जमीन पर जम्हूरियत की फसल लहलहाने की उम्मीद

इमरान का वोट हो सकता है अमान्य

पीटीआई प्रमुख इमरान खान ने अपना वोट एनए-53 (इस्लामाबाद-2) सीट पर डाला। उन पर बैलेट की गोपनीयता भंग करने का आरोप लगाया जा रहा है। ऐसे में पाकिस्तान चुनाव आयोग उनका वोट अमान्य कर सकता है। इमरान इस सीट से भी चुनाव लड़ रहे हैं।

टीवी चैनलों को दिए गये ये खास निर्देश

पाकिस्तान की इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी (पेमरा) ने प्राइवेट टीवी चैनलों को 11वें आम चुनाव से जुड़ी कोई भी प्रसारण नहीं करने के निर्देश दिए हैं। पेमरा का कहना है कि उसे पाक चुनाव आयोग की ओर से शिकायत मिली थी कि प्राइवेट टीवी चैनल उम्मीदवारों की रैलियों का प्रसारण कर रहे थे, जो कि दो दिन पहले ही खत्म हो चुकी हैं। ऐसे में उसके फुटेज प्रसारित करना गलत है। पेमरा ने मतदान के दौरान ओपिनियन पोल्स दिखाने पर भी प्रतिबंध लगाया है।

272 सीटों पर वोटिंग

नेशनल असेंबली में कुल 342 सीटें हैं। 60 सीटें महिलाएं और 10 अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित हैं। बाकी 272 सीटों पर वोटिंग होगी। चार प्रांत- पंजाब, सिंध, खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान में भी नई सरकार चुनी जाएगी। अब तक के सर्वे के मुताबिक, इमरान खान सरकार बनाते दिख रहे हैं। हालांकि, नवाज शरीफ का जेल जाना इमोशनल कार्ड के रूप में उनकी पार्टी पीएमएल-एन को फायदा पहुंचा सकता है।

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story