जानें कौन हैं नए IB चीफ राजीव जैन, आगरा से क्‍या है इनका कनेक्‍शन

Published by December 19, 2016 | 10:33 am
आगरा के राजिव जैन बने IB चीफ, शहर में उत्साह का माहौल

आगरा: ताजनगरी के राजीव जैन को देश की शीर्ष खुफिया एजेंसियों में शुमार इंटेलीजेंस ब्यूरो(आइबी) का नया चीफ बनाया गया है। इस खबर के बाद आगरा में स्थित उनके परिवार में खुशियां छा गई हैं वहीं पूरा शहर भी उल्लास से भर गया है। इंटेलीजेंस ब्यूरो(आइबी) के नए चीफ राजीव  जैन आगरा के रहने वाले हैं।

परिवार में खुशी का माहौल
राजीव जैन सेंट पीटर्स कॉलेज के छात्र रहे हैं। देश के नए आई बी चीफ का परिवार हरीपर्वत की पॉश नार्थ विजय नगर कॉलोनी में रहता है। आइबी में महत्वपूर्ण पद पर तैनाती के बाद से परिवार में खुशी का माहौल है।

बीए आनर्स के बाद की पीएचडी
आइबी के नए मुखिया राजीव जैन का बचपन नार्थ विजय नगर कॉलोनी में बीता है। बड़े भाई सुनील जैन ने बताया राजीव ने सेंट पीटर्स से इंटर की। आगे की पढ़ाई के लिए वह दिल्ली चले गए, वहां हिन्दू कॉलेज से इतिहास में बीए आनर्स के बाद पीएचडी की।

बचपन से मेधावी राजीव जैन का 1980 में भारतीय पुलिस सेवा में चयन हो गया। प्रशिक्षण के बाद बिहार कैडर मिला। बाद में बिहार से अलग होकर गठित नए राज्य झारखंड कैडर में चले गए। वहां अपनी ईमानदार छवि तथा कर्मठता के चलते जल्द अलग पहचान बनाई। इसके बाद प्रतिनियुक्ति पर आइबी में आए। यहां वह दिल्ली, जम्मू, बेंगलुरु तथा अहमदाबाद में सहायक निदेशक रहे। अब आइबी प्रमुख नियुक्त हुए हैं।

मिले हैं ये अवार्ड
आईबी के नए चीफ राजीव जैन आइपीएस अकादमी में प्रशिक्षण के दौरान इतिहास रच चुके हैं। इंडोर तथा आउटडोर एक्टिविटी में प्रथम रहे थे। उनको प्रधानमंत्री पिस्टल तथा प्रेसीडेंट स्वॉर्ड (तलवार) मिली थी। एक साथ दोनों अवार्ड उनसे पहले किसी को नहीं मिला।

उनके पिता राम नारायण का कंस्ट्रक्शन का पुश्तैनी काम है। बड़े भाई सुनील ही इसे संभालते हैं। छोटे भाई संजय जैन आइआइटी कानपुर के छात्र रहे हैं। आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका चले गए, वहां एमटेक के बाद सेमी कंडक्टर पर शोध किया। अब हिन्दुस्तान इंजीनियरिंग कॉलेज में ईसी विभागाध्यक्ष हैं। उनकी बहन नीरा जैन का मुंबई में गारमेंट एक्सपोर्ट का काम है।

ऐसे पहुंचे बिहार कैडर में
आइबी चीफ को बिहार कैडर मिलने की कहानी रोचक है। परिवार के लोग बताते हैं कि प्रशिक्षण के बाद आइपीएस को अपनी पसंद के कैडर की सूची देनी होती है। राजीव ने जो सूची दी, उसमें बिहार नहीं था। पासिंग आउट परेड में बिहार के पुलिस महानिदेशक आए थे। राजीव की परफार्मेंंस देख वह उनकी सिफारिश बिहार कैडर के लिए करके ले गए।

आइबी चीफ की शादी 1984 में अनुराधा से हुई। उनके दो बेटी हैं, दोनों ही डॉक्टर हैं एक बेटी एम्स में एमडी है तो दूसरी जाकिर हुसेन में डॉक्टर है। आगरा के विजय नगर निवासी राजीव जैन के आइबी चीफ बनने का पता चलने पर कॉलोनी के लोगों में खुशी का माहौल है। उत्तर विजय नगर विकास समिति के सचिव संजीव चतुर्वेदी ने बताया कॉलोनी वालों के लिए यह गर्व तथा सम्मान की बात है। उन्होंने राजीव जैन के आइबी चीफ बनने पर परिजनों को बधाई दी।