VHP नेता की मौत पर भड़के साक्षी महाराज, कहा-होता है एक्शन का रिएक्शन

आगरा: अपने विवादित बयानों को लेकर कई बार मीडिया की सुर्खियां बन चुके बीजेपी सांसद साक्षी महाराज एक बार फिर विवादों में घिरते नजर आ रहे हैं। दरअसल, साक्षी महाराज ने आगरा में विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के नगर उपाध्यक्ष अरुण माहौर की हत्या को लेकर एक भड़काऊ बयान दिया है। साक्षी महाराज ने कहा है कि एक्शन का रिएक्शन  होता है ये एक दर्शन है क्रिया की प्रतिक्रिया। उन्होंने कहा कि अगर चीटी को भी आप हाथ मारोगे तो चीटीं काटती हैं। वे बुधवार को नगर उपाध्यक्ष अरुण माहौर की हत्या पर हुई शोकसभा में शिरकत कर रहे थे।

25 फरवरी को हुई थी अरुण माहौर की हत्या
बीते गुरूवार को कुछ अज्ञात बदमाशों ने मंटोला के ढोलीखार में अरुण माहौर की गोली मारकर हत्या कर दी। उनकी हत्या के बाद पूरे शहर में आक्रोश फैला हुआ है।

केंद्रीय मंत्री रामशंकर कठेरिया ने भी दिया था ऐसा ही बयान
बीते दिन केंद्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री रामशंकर कठेरिया ने भी कुछ ऐसा बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि हिंदू समुदाय के खिलाफ यह षड्यंत्र किया जा रहा है, इसे पहचानने के लिए हमें अलर्ट रहना होगा और खुद को मजबूत करना होगा। हमें इसके खिलाफ लड़ना होगा, क्योंकि अगर अब हम इसे नहीं करते हैं तो आज हमने एक अरुण को खोया है और कल कोई दूसरा अरूण होगा। हत्यारों को भी मरना होगा, हमें ऐसा उदाहरण पेश करना होगा।

बयान को लेकर विपक्षी दल मांग रहे रामशंकर का इस्तीफा
आगरा की फिजा खराब करने का आरोप लगाकर विपक्षी दलों ने केंद्रीय मंत्री रामशंकर कठेरिया का इस्तीफ़ा मांग की है। केवल इतना ही नहीं विपक्षी दल भाजपा के अन्य नेताओं द्वारा खुलेआम ऐसे भड़काऊ बयान देने के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

साक्षी महाराज ने किया रामशंकर कठेरिया का बचाव
विपक्षी दलों द्वारा किए जा रहे हमलों पर रामशंकर कठेरिया का बचाव करते हुए साक्षी महाराज ने कहा “कठेरिया ने ऐसा कहा ही तो है….कोई गोली मार दी क्या? उन्होंने केवल इतना कहा और इसका राजनीतिक दल और मीडिया ने बवंडर खड़ा कर दिया….कहा जा रहा है कि दो सांसद बैठे थे, उन्होंने गोली मारने की बात कह दी।”  उन्होंने कहा कि गोली मारी तो नहीं कि कहने से ही गोली लग गई क्या। लेकिन जिसको गोली मारी गयी, जिसकी हत्या की गयी क्या उन हत्यारों को सजा नहीं मिलनी चाहिए? क्या उनको  इस्लाम की दृस्टि से देखना चाहिए?

सपा सरकार पर लगाया आरोपियों को बचाने का आरोप
साक्षी महाराज ने सपा सरकार पर हत्यारों को बचाने का आरोप लगाया। सपा सरकार पर आरोप लगाते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि अपराधियों को यदि उस प्रदेश की सरकार सही समय पर सजा नहीं देगी तो इस प्रकार की घटनाएं होती रहेंगी जैसी आगरा में हुई हैं।

मायावती पर भी साधा निशाना
भाजपा सांसद ने बसपा मुखिया मायावती द्वारा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का सिर मांगे जाने पर कहा कि अब मायावती पगला गयी है। इसका इलाज मेरे पास नहीं हैं। उन्होंने कहा कि बहस से लोग भाग रहे हैं और सिर मांग रहे हैं।  उन्होंने कहा कि हमलोग और स्मृति ईरानी तो उस संस्कृति के हैं जिसमे कहा जाता है ‘तेरा वैभव अमर रहे मां, हम दिन चार रहें न रहें।‘ भारतमाता को तो सिर दिया जा सकता हैं, मायावती को किस प्रकार सिर दिया जाए? मायावती बेबुनियादी बात करती हैं और इसका उत्तर देने का कोई अर्थ नहीं बनता हैं।

विपक्ष को नहीं मिल रही मुंह छुपाने की जगह
साक्षी महाराज ने कहा कि लोकसभा में जब स्मृति ईरानी पर रोहित बेमुला की हत्या का आरोप लगाया जा रहा था, उस समय मैं भी सदन में मौजूद था। इस आरोप पर स्मृति ईरानी ने कहा था कि एक बेटे की हत्या का दर्द केवल और केवल एक मां जान सकती है और मैं एक मां होने के नाते इसका दर्द समझ सकती हूं। उन्होंने यह भी कहा था कि यदि कोई भी रोहित बेमुला की हत्या का आरोप मेरे ऊपर सिद्ध कर दे तो मैं राजनीति से इस्तीफा दे दूंगी। उन्होंने कहा था कि चाहे माया हो, मुलायम हो, नीतीश, सोनिया, राहुल हो मोदी के ‘एजेंडों और रेल बजट-आम बजट के बाद इनको मुंह छुपाने की जगह नहीं मिल रही हैं इसलिए विपक्ष हमले कर रहा है।