×

20वें डॉ. शकुन्तला मिश्रा नेशनल क्रिकेट टूर्नामेंट फॉर विजुअली इम्पेयर्ड का हुआ उदघाटन

‘’तुम खेलो और जीतो, क्योंकि तुमने हार बहुत पीछे छोड़ दी है’’ ये बात बिल्कुल सही बैठती है इन खिलाडियों पर, जो कि विजुअली इम्पेयर्ड होने के बावजूद अपने जूनून और जज़्बे के दम पर दुनिया को लोहा मनवा रहे हैं।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 28 Jan 2020 8:39 AM GMT

20वें डॉ. शकुन्तला मिश्रा नेशनल क्रिकेट टूर्नामेंट फॉर विजुअली इम्पेयर्ड का हुआ उदघाटन
X
20वें डॉ. शकुन्तला मिश्रा नेशनल क्रिकेट टूर्नामेंट फॉर विजुअली इम्पेयर्ड का हुआ उद्घाटन
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: ‘’तुम खेलो और जीतो, क्योंकि तुमने हार बहुत पीछे छोड़ दी है’’ ये बात बिल्कुल सही बैठती है इन खिलाडियों पर, जो कि विजुअली इम्पेयर्ड होने के बावजूद अपने जूनून और जज़्बे के दम पर दुनिया को लोहा मनवा रहे हैं।

राष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट फॉर विजुअली इम्पेयर्ड का आयोजन

इनके खेल को बढ़ावा देने के लिए हर साल की तरह इस बार भी क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया फॉर हैंडीकैप और डॉ. शकुन्तला मिश्रा स्मृति सेवा संस्थान के तत्वाधान में संयुक्त रूप से ‘’राष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट फॉर विजुअली इम्पेयर्ड’’ का आयोजन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: CAA-NRC का असर: गुपचुप तरीके से भाग रहे घुसपैठिए, लापता हुए 5 हजार बांग्लादेशी

पिछले 20 सालों से तहजीब की नगरी में हो रहा आयोजन

यह टूर्नामेंट पिछले 20 वर्षों से तहजीब की नगरी में अलग-अलग जगहों पर होता रहा है। जिसको मद्देनज़र इस बार इसका आयोजन टी.एस. मिश्रा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल्स के ग्राउंड पर हो रहा है, जिसका उदघाटन मंगलवार को किया गया।

8 राज्यों की टीमें ले रहीं हिस्सा

इस टूर्नामेंट में आठ राज्यों की टीमें प्रतिभाग कर रही हैं जिसमें उत्तर-प्रदेश, झारखण्ड, हिमाचल प्रदेश, बिहार, हरियाणा और राजस्थान शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: मोदी के बाद अब इस दिग्गज एक्टर के साथ जंगल में नजर आएंगे बेयर ग्रिल्स

इस पांच दिवसीय टूर्नामेंट का उदघाटन जस्टिस शभीहुल हसनैन ने शकुंतला मिश्रा को यादकर व उनकी फोटो पर माल्यार्पण और फूल भेंटकर किया। जस्टिस हसनैन ने खिलाडियों का मनोबल बढाते हुए कहा, ‘ईश्वर ने आप लोगों को कुछ ऐसा दिया है, जो हमें नहीं दिया है। आपको सिर्फ वही दिखता है जो आप देखना चाहते हैं।’

तो इस मौके पर कार्यक्रम के आयोजक, राज्यसभा सांसद व क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया फॉर हैंडीकैप्ड के प्रेसीडेंट सतीशचन्द्र मिश्र ने अपनी माता की दी हुई प्रेरणा को याद करते हुए उस किस्से का ज़िक्र किया जब उन्होंने हैंडीकैपड के लिए कोर्ट में लड़ाई लड़ी थी।

इस मौके पर आयोजक व क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया फॉर हैंडीकैप्ड के वाइस प्रेसीडेंट कपिल मिश्रा और मुख्य आयोजिका कल्पना मिश्रा सहित सुनील कुमार चौधरी, आर.एस. अवस्थी और बृजेश कुमार मिश्रा मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें: गुजरात दंगों पर बड़ा फैसला: सुप्रीम कोर्ट ने 17 दोषियों को दी जमानत

Shreya

Shreya

Next Story