Top

रिटायर अफसरों पर अखिलेश मेहरबान, पंचम तल पर बने रहेंगे शंभू और जगदेव

Admin

AdminBy Admin

Published on 1 March 2016 8:03 AM GMT

रिटायर अफसरों पर अखिलेश मेहरबान, पंचम तल पर बने रहेंगे शंभू और जगदेव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: सीएम अखिलेश यादव रिटायर अफसरों पर मेहरबान है। सीएम के सचिव पद पर तैनात शंभू सिंह यादव और सीएम के ओएसडी जगदेव सिंह यादव का कार्यकाल 28 फरवरी, 2017 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। मौजूदा समय में कई रिटायर आईएएस और पीसीएस अफसरों की अखिलेश सरकार में मुख्य भूमिका है।

इन अफसरों का बढ़ाया कार्यकाल

यूपी सरकार ने जिन अफसरों का कार्यकाल बढ़ाया है, उनमें सचिव मुख्यमंत्री शंभू सिंह यादव, ओएसडी सीएम जगदेव सिंह यादव, सचिव सचिवालय प्रशासन प्रभात मित्तल, सचिव गृह एवं गोपन एसके रघुवंशी और सचिव नगर विकास के पद पर तैनात श्रीप्रकाश सिंह शामिल हैं।

इनका भी बढ़ा है कार्यकाल

इसके अलावा विशेष सचिव गोपन कृष्ण गोपाल, विशेष कार्याधिकारी के पद पर तैनात आरडी पालीवाल, राज्य निर्वाचन आयोग में विशेष कार्याधिकारी के पद पर तैनात जय प्रकाश सिंह और निदेशक नागरिक उड्डयन देवेंद्र स्वरूप का कार्यकाल भी बढ़ा है।

रिटायर अफसरों पर ज्यादा भरोसा करते हें अखिलेश

अखिलेश रिटायर्ड अफसरों पर ज्यादा भरोसा करते हैं। यही कारण है कि सचिव नगर विकास एसपी सिंह को रिटायरमेंट के बाद भी उसी पद पर बिठाए रखा गया। ठीक इसी तरह सीएम की कोर टीम के सदस्य के तौर पर गिने जाने वाले शंभू सिंह यादव लगातार कई सालों से सचिव सीएम के पद पर बने हुए हैं।

एसके रघुवंशी, देवेंद्र स्वरूप पर अनीता सिंह की मेहरबानी के चर्चे

सचिव नागरिक उड्डयन, गृह व गोपन एसके रघुवंशी और निदेशक नागरिक उड्डयन देवेंद्र स्वरूप पर सचिवालय के अफसरों में प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री अनीता सिंह की मेहरबानी की चर्चा है। कहा जा रहा है कि चूंकि अनीता सिंह के पास प्रमुख सचिव नागरिक उड्डयन का चार्ज है। इसीलिए इन दोनों अफसरों का कार्यकाल एक बार फिर बढ़ा है।

दागी अफसरों पर भी सीएम ने खूब किया भरोसा

इतना ही नहीं मुख्यमंत्री ने सूबे के कई दागी आईएएस अफसरों पर भी भरोसा जताया है। अब तक हाईकोर्ट से सजायाफ्ता राजीव कुमार सरकार की नींव का पत्थर बने हुए थे। उन्हें प्रमुख सचिव नियुक्ति व कार्मिक जैसे अहम विभाग की जिम्मेदारी दी गयी थी। पर हाईकोर्ट के सख्त रूप के बाद अब उन्हें प्रतीक्षारत कर दिया गया है। हालांकि संजीव सरन, प्रदीप शुक्ला, राकेश बहादुर अब भी भरोसेमंद बने हुए हैं ।

Admin

Admin

Next Story