×

दहेज की भेंट चढ़ी एक और विवाहिता, पति समेत तीन पर केस दर्ज

दहौरा सिंघरो गांव निवासी एक विवाहिता की दहेज के लिए गला दबाकर हत्या कर दी गई। पड़ोसियों की सूचना पर पहुंचे मृतका के पिता ने थाने पर तहरीर दी, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इससे नाराज लोगों ने थाने के सामने शव रखकर प्रदर्शन किया।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 14 Feb 2019 1:49 PM GMT

दहेज की भेंट चढ़ी एक और विवाहिता, पति समेत तीन पर केस दर्ज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

बहराइच: दहौरा सिंघरो गांव निवासी एक विवाहिता की दहेज के लिए गला दबाकर हत्या कर दी गई। पड़ोसियों की सूचना पर पहुंचे मृतका के पिता ने थाने पर तहरीर दी, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इससे नाराज लोगों ने थाने के सामने शव रखकर प्रदर्शन किया। इस पर पुलिस ने पति समेत तीन के विरुद्ध केस दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

ये है पूरा मामला

फखरपुर थाना अंतर्गत खालिदपुर गांव निवासी सिपाहीलाल ने रानीपुर थाने में तहरीर देकर कहा है कि उन्होंने अपनी पुत्री रेनू (२३) का विवाह सिंघरो गांव निवासी सत्यवीर उर्फ विवेक के साथ तीन वर्ष पूर्व किया था। लेकिन विवाह के बाद से पति व सास, ससुर दहेज के लिए पुत्री को प्रताड़ित कर रहे थे। सभी दहेज में बाइक व नकदी की मांग कर रहे थे।

पुत्री द्वारा फोन पर बताने पर उन्होंने कुछ समय मांगा। लेकिन दहेज की डिमांड पूरी न करने पर ससुरालीजनों ने बुधवार रात पुत्री रेनू की गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद सभी फरार हो गए। पड़ोसियों की सूचना पर मृतका के पिता सिपाहीलाल गांव पहुंचे। लेकिन ससुराल के लोग मौके पर नहीं मिले। इस पर उसने थाने में तहरीर देकर दहेज हत्या का केस दर्ज कराए जाने की मांग की। लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इससे नाराज लोगों ने शव को थाने के सामने रखकर प्रदर्शन किया।

ग्रामीणों के प्रदर्शन को देख पुलिस हरकत में आई। पुलिस ने मृतका के पिता की तहरीर पर पति सत्यवीर उर्फ विवेक, सास मुन्नी व ससुर के विरुद्ध दहेज हत्या का केस दर्ज कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

दो वर्ष के मासूम है गुमसुम

मृतका रेनू की गोद में दो वर्ष की मासूम बेटा दीपक है। लेकिन मां की मौत के बाद से पिता व बाबा-दादी भी फरार हैं। ऐसे में मासूम को सिर्फ अपने नानी-नाना का ही सहारा है। वह मां की मौत के बाद से गुमसुम है। दीपक मां को देखकर बार-बार देखकर रो रहा है।

ये भी पढ़ें...बहराइच: दहेज की बलि चढ़ी महिला! कुंडे से लटकता मिला शव

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story