Top

दिल्ली के बाद अब UP की बारी, पुराने लोगों के कंधे से हटेगी जिम्मेदारी

By

Published on 9 July 2016 9:43 AM GMT

दिल्ली के बाद अब UP की बारी, पुराने लोगों के कंधे से हटेगी जिम्मेदारी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: दिल्ली में होने वाले बड़े फेरबदल के बाद अब नरेंद्र मोदी और अमित शाह के निशाने पर यूपी है। जल्द ही यूपी बीजेपी में भी बड़े फेरबदल देखने को मिल सकते हैं। जानकारों की मानें तो इस बड़े फेरबदल में पुराने बीजेपी नेताओं और प्रवक्ताओं के आगे कम उम्र के हाईटेक युवाओं को जगह मिलेगी। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि बीजेपी या आरएसएस में से किसका पलड़ा भारी रहने वाला है।

आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व यूपी में किसी तरह की कोताही बरतने के मूड में नहीं है। इस बड़े उलटफेर में मुमकिन है कुछ स्थानीय नेताओं के पर भी कतरे जा सकते हैं।

कप्तान नए, टीम पुरानी

यूपी विधानसभा चुनाव में 265 से ज्यादा सीटों के साथ सत्ता में वापसी करने का दावा करने वाली बीजेपी ने केशव मौर्य के रूप में नए कप्तान को तैनाती तो कर दिया लेकिन अभी वह उसी पुरानी टीम के साथ काम करने को मजबूर हैं। ऐसे में जल्द ही गठित होने वाली नई टीम ने कई नए चेहरे सामने आएंगे, जिन्हें नए कप्तान के मिशन को पूरा करने की जिम्मेदारी दी जाएगी।

ये भी पढ़ें ...मुलायम सिंह ने फिर कहा- सुधर जाओ, वरना 2017 में नहीं बनेगी सरकार

नेताओं के करीबियों पर भी टेढ़ी नजर

विश्वस्त सूत्रों की मानें तो प्रदेश के एक कैबिनेट मंत्री के करीबी के पर भी कतरे जा सकते हैं। बता दें ये वही मंत्री हैं, जो बड़ी मुश्किल से इस बार के कैबिनेट विस्तार में अपनी कुर्सी बचा पाए हैं।

मीडिया सेल से भी है नाराजगी

विश्वस्त सूत्रों की मानें तो पार्टी के शीर्ष नेता यूपी की मीडिया सेल से भी संतुष्ट नहीं हैं। बीते महीने अमित शाह जब लखनऊ आए थे तो उस दौरान पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया था, जिसमें हुई असुविधाओं पर अमित शाह की त्योरियां चढ़ी थीं। इतना ही नहीं उन्होंने मौके पर ही मंच की व्यवस्था संभाल रहे प्रवक्ताओं को नसीहत दी थी कि किस तरह से काम किया जाता है। अमित शाह की इस नाराजगी का असर आने वाले दिनों में दिखाई पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें ...माया के लिए पत्थर के हाथी नई मुसीबत, छिन सकता है चुनाव चिन्ह

Next Story