Top

सावधान ! ब्रिटानिया कंपनी के केक नहीं हैं शाकाहारी, जांच में सैंपल फेल

By

Published on 5 July 2016 1:56 PM GMT

सावधान ! ब्रिटानिया कंपनी के केक नहीं हैं शाकाहारी, जांच में सैंपल फेल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: मार्केट से शाकाहारी ब्रांडेड केक खरीदकर खाने वाले लोगों को बड़ा झटका लगा है क्योंकि भारत की प्रतिष्ठित ब्रिटानिया कंपनी के शाकाहारी केक सैंपल जांच में फेल हो गए हैं।बाराबंकी के खाद्य विभाग की टीम द्वारा पूर्व में जांच के लिए भेजे गए ब्रिटानिया केक के सैंपलों की जांच रिपोर्ट आने के बाद हडकंप मच गया है। ब्रिटानिया कंपनी के जो केक शाकाहारी होने का दावा कर रहे हैं वह असल में शाकाहारी नहीं हैं।

जांच रिपोर्ट में सामने आई बात

-जांच रिपोर्ट में यह बात सामने आई कि चर्चित कंपनी ब्रिटानिया पैक्ड केक पैकेजिंग और लेवलिंग एक्ट का खुला उल्लंघन कर रही है।

-पैकेजिंग में जो शब्द लिखे जाने चाहिए थे उन्हें नहीं लिखा गया है।

-कंपनी के खिलाफ एडीएम कोर्ट ने 4 लाख 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है।

britania-compny

कंपनी कर रही जनता को गुमराह

-कुछ समय पहले शहर के विशाल मेगामार्ट से बाराबंकी के खाद्य सुरक्षा अधिकारी संजय सिंह ने ब्रिटानिया ब्रांड के पैक्ड चॉकलेट केक के सैंपल जांच के लिए लैब भेजे थे।

-लैब की रिपोर्ट में यह साफ कहा गया है कि कंपनी पैकेजिंग और लेवलिंग रेगुलेशन एक्ट-2011 का खुला उल्लंघन कर रही है।

-जिससे जनता गुमराह हो रही है।

यह भी पढ़ें ... ब्रिटानिया बिस्किट के सैंपल जांच में फेल, फ्रूट केक में मिला अंडा

क्या कहना है चीफ फूड इंस्पेक्टर का

-बाराबंकी के चीफ फूड इंस्पेक्टर मनोज वर्मा ने बताया कि ब्रिटानिया कंपनी के जो केक शाकाहारी होने का दावा कर रहे हैं वह असल में शाकाहारी नहीं हैं।

-कंपनी ने केक पर नॉनवेज सिंबल जो ब्राउन कलर का होना चाहिए था, उसको अंकित नहीं किया था।

-इस पर ब्राउन की जगह लाल रंग का सिंबल अंकित किया गया था।

-भारत की अधिकांश जनता वेजिटेरियन है और यह एक प्रतिष्ठित कंपनी है।

-इसलिए इनसे यह आशा नहीं की जाती कि इस तरह का ये बड़ा फाल्ट करें।

-इन्हें दोषी पाते हुए एडीएम कोर्ट बाराबंकी ने कंपनी और जहां से इन्होने माल लिया था उसपर कुल 04 लाख 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है।

-आगे की प्रक्रिया में नोटिस जारी किया गया है कि जिसमे कंपनी को एक महीने के अंदर पूरा जुर्माना जमा करना होगा।

Next Story