अयोध्या में दीपोत्सव, 28 मिनट में जलेंगे पांच लाख 51 हजार दीपक

प्रदेश की योगी सरकार ने मंगलवार को हुई कैबिनेट बैठक में विध्ंयधाम, नैमिष धाम एवं देवी पाटन धाम की तर्ज पर अयोध्या के दीपोत्सव को राज्य मेला का दर्जा दे दिया है। इस तरह यह दीपोत्सव मेला अब हर साल मनाया जायेगा, जिसमें आने वाला खर्च प्रदेश सरकार वाहन करेगी।

  • 17 हजार लीटर सरसों के तेल से दीपक जलाने के लिए बनी 140 समितियां

लखनऊ: सरयू तट पर बसी अयोध्या में होने वाले तीसरा दीपोत्सव इस बार दोगुने जोश से मनाया जायेगा। इस बार सरकार ने यहां पर पांच लाख 51 हजार दीपक जलाने का लक्ष्य रखा है। खास बात यह है कि यह सभी दीपक महज 28 मिनट में जल जायेगे। इसके लिए 17 हजार लीटर सरसों के तेल की व्यवस्था की गयी है। इन दीपकों को जलाने के लिए 140 समितियां बनायी गयी हैं। जबकि 600 छात्र स्वयंसेवकों के रूप में इन दीयों को जलाने में सहयोग करेंगे।

यह दीपोत्सव मेला अब हर साल मनाया जायेगा

प्रदेश की योगी सरकार ने मंगलवार को हुई कैबिनेट बैठक में विध्ंयधाम, नैमिष धाम एवं देवी पाटन धाम की तर्ज पर अयोध्या के दीपोत्सव को राज्य मेला का दर्जा दे दिया है। इस तरह यह दीपोत्सव मेला अब हर साल मनाया जायेगा, जिसमें आने वाला खर्च प्रदेश सरकार वाहन करेगी। इतना ही नहीं इस मेले के बजट की व्यवस्था सरकार अलग से करेगी। सूत्रों के अनुसार इस बार छह करोड रुपये खर्च कर यह दीपोत्सव मनाया जा रहा है।

ये भी देखें: कमलेश तिवारी हत्याकाण्ड: ATS ने किया आरोपियों को गिरफ्तार

इस दीपोत्सव को लेकर अयोध्या में इन दिनों तैयारियां जोर पर चल रही है। जिला प्रशासन ने अयोध्या में रहने वाले लोगों को 11-11 दीपक बांटना आरंभ कर दिया है जिससे पांच लाख 51 हजार दीपों की संख्या को पूरा किया जा सके। इस तरह प्रदेश सरकार एक साथ दीये जलाने में अपना ही पुराना रिकार्ड तोडने जा रही है। पिछले वर्ष अयोध्या के दीपोत्सव में साढ़े तीन लाख दीप जलाये गये थे। इस बार यह संख्या 2 लाख बढ़ाकर साढ़े पांच लाख कर दी गयी है।

गुप्तारघाट से नंदी ग्राम तक 17 किलोमीटर तक का नजारा त्रेतायुग जैसा

सरयू के किनारे सभी छोटे मंदिरों को एक रूपता लाने के लिए एक रंग से पुताई की जा रही है। वहीं घाटों को विशेष साफ सफाई कर चमकाया जा रहा है। गुप्तारघाट से नंदी ग्राम तक 17 किलोमीटर तक का नजारा त्रेतायुग जैसा दिखाने की कोशिश की जा रही है। साथ ही अयोध्या के साकेत महाविघालय से लेकर राम की पैढ़ी तक राम चरित मानस के सात अध्यायों के अनुसार सात तोरण द्वार बनाये जा रहे है जो त्रेतायुग की यादों को ताजा करेंगे।

25 से 27 अक्टूबर तक चलने वाले इस उत्सव में अयोध्या के राम कथा पार्क में रामलीला का भी आयोजन किया जा रहा है। इस रामलीला का मंचन श्रीलंका, थाईलैण्ड, इंडोनेशिया एवं फिलीपिंस के कलाकारों द्वारा किया जायेगा। 26 अक्टूबर को छोटी दीपावली के दिन यहां पर खास आयोजन होगा जिसमें थाईलैण्ड के राजा विशेष मेहमान होंगे इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे।

आयोजन में लाखों की भीड़ एकत्र होने की संभावना

ये भी देखें: क्या दिवाली के दिये पर वसूली ! अगर कोई ऐसा करे तो होगा ये काम

इसी दौरान सीएम योगी अयोध्या को 373 करोड की सौगात देगे जिसमें कई योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया जायेगा। मेले की तैयारी इन दिनों जोरों पर है। अयोध्या के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी रोज यहां पर कार्यक्रम की तैयारी के साथ ही सुरक्षा का जायजा ले रहे हैं। इस आयोजन में लाखों की भीड़ एकत्र होने की संभावना है जिसे लेकर भक्तों की सुविधाओं की भी इंतजाम किया जा रहा है।