बड़ा ही दर्दनाक! देश छोड़ा, धर्म छोड़ा पहुंची पाकिस्तान, चुका रही शादी की बड़ी कीमत     

शारजाह में रहने वाली काजल रशीद खान ने 31 जुलाई को अपना आईडी कार्ड रिन्यू कराने के लिए आवेदन किया था लेकिन अब तक उसे नया आईडी जारी ही नहीं किया गया है। अधिकारियों का कहना है कि उसके दस्तावेजों की प्रमाणिकता की जांच की जा रही है। जबकि सामान्यत: आईडी कार्ड जारी करने में 7-10 दिन ही लगते हैं।

Published by SK Gautam Published: November 12, 2019 | 9:41 pm
Modified: November 12, 2019 | 9:51 pm

नई दिल्ली: अक्सर ये देखा जाता है कि भारतीय महिलाएं पाकिस्तान और सऊदी अरब में रह रहे मुस्लिम युवकों से अपना धर्म बदलकर शादी तो कर लेतीं है लेकिन कई बार ये शादी उनकी पूरी जिंदगी बर्बाद कर देती है। ऐसा ही एक मामला प्रकाश में आया है जिसमें एक भारतीय महिला ने 19 साल पहले एक पाकिस्तानी नागरिक से शादी की थी जिसके बाद इस भारतीय महिला के सामने पहचान का संकट पैदा हो गया है।

ये भी देखें : 6170 पदों पर नियुक्ति: हाईकोर्ट ने मांगा शासन से जवाब

एक पूर्व भारतीय नागरिक महिला ने एक पाकिस्तानी शख्स से शादी के लिए अपना नाम, धर्म और राष्ट्रीयता सब बदल लिया लेकिन अब पाकिस्तान में उन्हें नया राष्ट्रीय पहचान पत्र ही जारी नहीं किया जा रहा है।

बता दें कि शारजाह में रहने वाली काजल रशीद खान ने 31 जुलाई को अपना आईडी कार्ड रिन्यू कराने के लिए आवेदन किया था लेकिन अब तक उसे नया आईडी जारी ही नहीं किया गया है। अधिकारियों का कहना है कि उसके दस्तावेजों की प्रमाणिकता की जांच की जा रही है। जबकि सामान्यत: आईडी कार्ड जारी करने में 7-10 दिन ही लगते हैं।

ये भी देखें : संभालकर रखें ये पर्ची! बड़े काम की है ये चीज, यात्रा में होगा बड़ा लाभ

कराची में काजल के बैंक अकाउंट फ्रीज कर दिए गए हैं

कराची में काजल के बैंक अकाउंट फ्रीज कर दिए गए हैं। काजल की मौजूदा पाकिस्तानी आईडी कार्ड 2023 तक वैध है लेकिन पाकिस्तान में अपने बैंक अकाउंट ऑपरेट करने के लिए उन्हें नए स्मार्ट आईडी कार्ड के लिए आवेदन करना पड़ा।

महिला के पास दुबई के पाकिस्तानी दूतावास द्वारा जारी किया गया एक पत्र भी है जिसमें इस बात की पुष्टि की गई है कि उसने अपना भारतीय पासपोर्ट सौंप दिया है और 2001 में उसे पाकिस्तानी पासपोर्ट जारी किया गया है।

ये भी देखें : कार्तिक पूर्णिमा: मनकामेश्वर घाट पर देव दीपावली मनाते श्रद्धालु व आरती करती महंत दिव्यागिरी

60 वर्षीय रशीद पेशे से आर्किटेक्ट हैं और वह 1989 में कराची से यूएई आए थे। रशीद ने 1996 में मुंबई में एक हिंदू लड़की कल्पना से शादी की थी। कल्पना ने इस्लाम में अपना धर्म परिवर्तन कर अपना नाम काजल रख लिया था। रशीद के भारत में कई रिश्तेदार हैं।