Top

पुलिस वीक में गरमा सकता है IPS सुभाष दुबे को दोषी ठहराने का मुद्दा

Admin

AdminBy Admin

Published on 30 March 2016 4:03 PM GMT

पुलिस वीक में गरमा सकता है IPS सुभाष दुबे को दोषी ठहराने का मुद्दा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: आगामी एक अप्रैल से शुरू होने वाले तीन दिवसीय पुलिस वीक में कई कार्यक्रम होने हैं। इसी महीने आए जस्टिस सहाय कमेटी की जांच रिपोर्ट के आधार पर मुजफ्फरनगर के तत्कालीन एसएसपी सुभाष दुबे को बलि का बकरा बनाए जाने का मुद्दा इस पुलिस वीक में सबसे ऊपर रहने की उम्मीद है।

आईपीएस एसोसिएशन से जुड़े सूत्रों की मानें तो सरकार की तरफ से इस तरह अधिकारियों का अपने राजनीतिक हित के लिए इस्तेमाल किए जाने से इस वर्ग में खासा रोष है।

गौरतलब है कि मुजफ्फरनगर दंगों के लिए गठित जस्टिस विष्णु सहाय के 700 पेज की जांच रिपोर्ट के आधार पर सरकार की एक्शन टेकेन रिपोर्ट (एटीआर) में दंगों के दौरान एसएसपी सुभाष चंद्र दुबे के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिए गए हैं। इस जांच रिपोर्ट के आधार पर मुख्यतया डीएम और एसएसपी सुभाष को ही दोषी माना गया है।

ये भी पढ़ें ...सरकार ने माना- मुजफ्फरनगर दंगों में हुई चूक, SSP को बताया दोषी

सरकार को समझनी होगी अधिकारियों की दशा

आईपीएस एसोसिएशन से जुड़े एक अधिकारी ने बताया, कि सरकारों पर आरोप लगते रहते हैं। लेकिन अपने स्वार्थ के लिए अधिकारियों का इस्तेमाल किया जाना सही नहीं है। सरकार को भी अधिकारियों की स्थिति समझनी होगी।

ओवैसी भी उठा चुके हैं सवाल

मुजफ्फरनगर दंगे में सिर्फ दो लोगों को जिम्मेदार ठहराने की आलोचना एआईएमआईएम के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भी की थी। उन्होंने कहा था 'इतने बड़े पैमाने पर दंगे हुए, लोग मारे गए, पचास हजार से ज्यादा परिवार बेघर हो गए लेकिन सरकार ने सिर्फ दो अधिकारियों की बलि चढ़ा कर असली गुनहगारों को बख्श दिया।

एसोसिएशन ने कुछ भी कहने से मना किया

आईपीएस एसोसिएशन के अधिकारियों से जब बात की गई तो किसी ने भी इस मुद्दे पर कुछ नहीं बोला। आईपीएस एसोसिएशन के महासचिव प्रकाश डी ने कहा कि पुलिस वीक में प्रदेश भर के ज्यादातर आईपीएस अधिकारी शामिल होंगे। इसमें उनके काम-काज से जुड़ी चीजों और समस्याओं पर चर्चा होगी। इसके अलावा पुलिसिंग को कैसे बेहतर बनाया जाए और पुलिस सुधार से जुड़े मुद्दों पर बात होगी।

Admin

Admin

Next Story