Top

VIDEO : शरद यादव का गजब तर्क, कहा- बेरोजगारी है इसलिए बढ़ रहे कांवड़िए

जेडीयू के नेता शरद यादव ने शुक्रवार को कांवड़ियों और बेरोजगारी के बीच अजब-गजब रिश्ता जोड़ दिया। शरद ने कहा कि बेरोजगारी की वजह से ही इतने कांवडिए दिख रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने तमाम मुद्दों को लेकर मोदी सरकार को भी घेरा।

aman

amanBy aman

Published on 6 Aug 2016 7:01 AM GMT

VIDEO : शरद यादव का गजब तर्क, कहा- बेरोजगारी है इसलिए बढ़ रहे कांवड़िए
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर : जेडीयू के नेता शरद यादव ने शुक्रवार को कांवड़ियों और बेरोजगारी के बीच अजब-गजब रिश्ता जोड़ दिया। शरद ने कहा कि बेरोजगारी की वजह से ही इतने कांवडिए दिख रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने तमाम मुद्दों को लेकर मोदी सरकार को भी घेरा।

क्या बोले शरद?

-शरद ने कहा कि अगर लोगों के पास काम होता तो कांवड़ियों की इतनी तादाद नहीं होती।

-उन्होंने कहा कि हर साल एक करोड़ 30 लाख युवा बेरोजगार होकर सड़कों पर आ रहा है।

-बीजेपी ने हर साल 2 करोड़ रोजगार देने की बात की थी।

और क्या बोले जेडीयू नेता?

-शरद यादव ने कहा कि नरौरा बांध के बाद गंगा में पानी नहीं आता है। जो पानी दिखता है, वह लोगों का इस्तेमाल किया हुआ है।

-दाल गरीबों का प्रोटीन है, लेकिन इसकी कीमत 200 रुपए किलो पहुंच गई है।

-यूपी सरकार ये समझ नहीं रही कि कानून और व्यवस्था के बगैर विकास नहीं होता है।

-यूपी की राजनीति थम गई है, हम इसे सुधारेंगे। यूपी की राजनीति सुधरेगी तो देश भी सुधरेगा।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story