Top

कानपुर में जॉर्डन के नागरिक का बना लाइसेंस, गृह मंत्रालय ने मांगा जवाब

By

Published on 8 Jun 2016 10:21 AM GMT

कानपुर में जॉर्डन के नागरिक का बना लाइसेंस, गृह मंत्रालय ने मांगा जवाब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: कानपुर में फर्जी डाक्यूमेंट्स के आधार पर अपना परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वाले जॉर्डन के नागरिक अदनान अली के मामले को देश के गृह मंत्रालय ने गंभीरता से लिया है। गृह मंत्रालय ने इस मामले को देश के सभी प्रदेशों की सरकारों के पास भेज दिया है। अदनान के ऊपर आतंकवादी होने का आरोप है इसके बावजूद अदनान का परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस कानपुर से बना हुआ है।

document-copy-license

कानपुर कोर्ट के सीनियर एडवोकेट विजय बक्शी ने इस पूरे मामले में भारत सरकार के गृह मंत्रालय से आरटीआई के माध्यम से जवाब मांगा था। इस आरटीआई का गृह मंत्रालय ने जवाब दिया है। जिसमें यह कहा गया है कि आरटीआई को देश के सभी राज्यों की सरकारों के प्रमुख सचिव (गृह) को भेजा है और इस संबंध में जानकारी देने को कहा गया है। फिलहाल इस मामले पर अब गृह मंत्रालय ने कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है।

rti-copy

एसटीएफ ने किया था गिरफ्तार

05 जनवरी 2002 को एसटीएफ ने इंद्रानगर मुंशी पुलिया के पास लखनऊ से जॉर्डन के जकी इलाके के रहने वाले अदनान अली के साथ उसके दो अन्य साथी फलीस्‍तीन के वासिल और समीर महमूद को गिरफ्तार किया था। इनके पास से कई आपत्तिजनक वस्तुएं मिली थीं। एसटीएफ का दावा था कि अदनान 1993 में भारत आया था। अदनान के पास आतंकवादी संगठन “हमास” से सम्बंधित दस्तावेज के साथ कई अन्य तरह की आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद हुई थी।

कोर्ट ने देश छोड़कर बाहर जाने पर लगा राखी है रोक

जमानत मिलने के बाद भी कोर्ट ने अदनान के देश छोड़कर बाहर जाने पर रोक लगा रखी है। अदनान ने कानपुर में आकर शादी कर ली और फर्जी दस्तावेजों के आधार पर आरटीओ से अपना परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवा लिया। उसके आधार पर अपना पैन कार्ड भी बनवा लिया।

document-copy

एडवोकेट बख्शी ने बताया कि होम मिनिस्टर कार्यालय से आरटीआई के जरिए मांगे थे जवाब

-तीन अवैध विदेशी नागरिको को फॉरेन एक्ट के अंतर्गत किस क्षेत्र से किस क्षेत्र तक भ्रमण करने की अनुमति किस तारीख को दी गई। उसकी निगरानी करने की जिम्मेदारी कानपुर और लखनऊ के किस अधिकारी को दी गई है। विस्तृत सूचना दस्तावेज के साथ प्रदान किए जाए।

-विदेशी नागरिक अदनान अली ने किन प्रावधानों के अंतर्गत अपने नाम पैन कार्ड प्राप्त किया है और किस अधिनियम के अंतर्गत पैन कार्ड बनाने वाले विभाग और अधिकारियो को अवैध विदेशी नागरिक का पैन कार्ड को शक्तियां प्राप्त हैं, दस्तावेज सहित संपूर्ण जानकारी प्रदान करें।

-क्या अवैध विदेशी नागरिक अदनान अली का कानपुर आरटीओ को किस अधिनियम के तहत स्थाई ड्राइविंग लाइसेंस बनाने का अधिकार प्राप्त है इसकी विस्तृत जानकारी प्रदान करें।

-अवैध विदेशी नागरिक का पैन कार्ड और ड्राइविंग लाइसेंस बनाने अथवा जारी करने वाले किस विभागीय अधिकारियो के विरुद्ध आज तक दंडात्मक कार्यवाई की गई।

-एफआईआर में अवैध विदेशी नागरिक के पास से हमास आतंकवादियो से संबंध में उनके विरुद्ध आईपीसी के आलावा अन्य सुरक्षा अधिनियमों के अंतर्गत आज तक क्या कोई कार्रवाई की गई।

-अवैध विदेशी नागरिक के पास से भारत के कई विश्व विद्यालय के प्रमाण पत्र बरामद हुए थे। इस संबंध में सम्बंधित विश्व विद्यालय से क्या कोई जांच कार्रवाई भारत की किसी सुरक्षा एजेंसी में सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत की गई।

RTI-COPY-ADVOCATE

कानपुर की लड़की से की शादी

-अदनान 2007 में लखनऊ में अपने तीन साथियों के साथ पकड़ा गया था।

-जेल में रहने के बाद वह जमानत पर बाहर आया और कानपुर में एक लडकी से शादी कर चकेरी के जाजमऊ में रहने लगा था।

-अदनान ने कानपुर में ड्राइविंग लाइसेंस और पैन कार्ड बनवा कर इंटरनेट कनेक्शन भी लिया था।

-अदनान अली ज्यादा समय इंटरनेट में बिताता था वह किसी से मतलब नही रखता था और कई-कई दिनों तक लापता रहता था।

-इस पर अदनान की पत्नी ने उसकी अजीब हरकतों की वजह से अदनान को छोड़ दिया।

Next Story