योगी का ताबड़तोड़ एक्शन: नहीं बचेगा विकास दुबे, अब खुलेंगे अधिकारियों के भी चिठ्ठे

कानपुर में माफिया विकास दुबे के साथ हुई मुठभेड़ में 8 पुलिसवालों को अपनी जान गंवानी पड़ी। जिसके बाद से प्रदेश प्रशासन की आंखे खुली हैं। ऐसे में अब पुलिस और प्रशासन ने गैंगेस्टर विकास दुबे के तड़ातड़ कार्रवाई की जा रही है।

लखनऊ। यूपी के कानपुर में माफिया विकास दुबे के साथ हुई मुठभेड़ में 8 पुलिसवालों को अपनी जान गंवानी पड़ी। जिसके बाद से प्रदेश प्रशासन की आंखे खुली हैं। ऐसे में अब पुलिस और प्रशासन ने गैंगेस्टर विकास दुबे के तड़ातड़ कार्रवाई की जा रही है। इसके साथ ही प्रदेश सीएम योगी अब संतोष शुक्ला हत्याकांड की कहानी सुनेंगे। इस कहानी में गैंगेस्टर विकास दुबे और पुलिस का अहम किरदार रहा है।

ये भी पढ़ें… बाढ़ से कांपा देश: 1000 सैनिक बचाव कार्य में जुटे, हर तरफ मचा हाहाकार

खुफिया तंत्र और पुलिस से जुटा रहे

सन् 2001 में बीजेपी सरकार में श्रम संविदा बोर्ड के चेयरमैन रहे राज्यमंत्री संतोष शुक्ला के शिवली थाने में घुसकर हत्या का मामला उस समय तो उतनी तेजी से नहीं उठा था, जितनी तेजी अब पकड़ता जा रहा है।

संतोष शुक्ला हत्याकांड के इस मामले में मुख्य आरोपी विकास दुबे कोर्ट से बरी हो चुका है लेकिन अब यह मामला मुख्यमंत्री की नजर में आया है। इस मामले में मुख्यमंत्री पूरी जानकारी खुफिया तंत्र और पुलिस से जुटा रहे हैं।

माफिया विकास दुबे को इस मामले में आश्रय देने वाले नेताओं की सच्चाई जानने के लिए जल्द ही वह संतोष शुक्ला के भाई मनोज शुक्ला से भी बातचीत करेंगे। साथ ही पता चला है कि मनोज शुक्ला अपने भाई की हत्या के प्रकरण का सिलसिलेवार ब्योरा तैयार कर रहे हैं। और इस केस को लेकर जल्द वह सीएम योगी से मुलाकात करेंगे।

ये भी पढ़ें…हार गई चीनी सेना: मोदी के लेह दौरे ने किया कमाल, सीमा से हटने को हुए मजबूर

संबंध बड़े नेताओं, बड़े अधिकारियों से

मनोज शुक्ला ने सीएम की तरफ से कोई बात करने वाली जानकारी तो नहीं दी लेकिन इस मामले पर गंभीरता से कहा कि विकास दुबे का तब तक बाल बांका नहीं हो सकता है, जब तक उसका संबंध बड़े नेताओं, बड़े अधिकारियों से खत्म नहीं हो जाता है।

संतोष के भाई मनोज शुक्ला ने यह भी बताया कि विकास दुबे को संरक्षण देने वाले लोगों की एक लंबी लिस्ट है जो सरकार के बाहर और अंदर रहने वाले लोगों की है। फिलहाल पुलिस हत्याकांड के साथ ही संतोष शुक्ला हत्याकांड का खुलासा करने में भी प्रशासन लगा हुआ है।

ये भी पढ़ें…तबाही की चेतावनी: हो जाएं सतर्क, यहां मौसम ढाने वाला है कहर

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App