आसाराम यौन शोषण मामला: गवाह के हत्या का आरोपी लखनऊ रेफर, पीड़िता के पिता ने जताया शक

आसाराम बीमारी का बहाना बनाकर अस्पताल में भर्ती होने के कई बार बहाने तलाश चुका है। वहीं आसाराम यौन उत्पीड़न मामले में गवाह की हत्या के मामले में जेल में बंद आरोपी नारायण पांडे की हालत बिगड़ने की बात पर उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। अब उसे लखनऊ के केजीएमसी अस्पताल के लिए रेफर किया गया है।

Published by priyankajoshi Published: January 12, 2018 | 6:18 pm
Modified: January 12, 2018 | 6:45 pm

शाहजहांपुर: आसाराम बीमारी का बहाना बनाकर अस्पताल में भर्ती होने के कई बार बहाने तलाश चुका है। वहीं आसाराम यौन उत्पीड़न मामले में गवाह की हत्या के मामले में जेल में बंद आरोपी नारायण पांडे की हालत बिगड़ने की बात पर उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। अब उसे लखनऊ के केजीएमसी अस्पताल के लिए रेफर किया गया है।

वहीं पीड़िता के पिता का कहना है कि नारायण पाण्डेय बीमारी का ड्रामा कर रहा है और बाहर रहकर उनकी हत्या का षड़यंत्र रच सकता है। साथ ही उनका ये भी कहना है कि आसाराम के कई गुर्गे पिछले कई दिनों से शहर में मौजूद हैं।

हत्या की आशंका
वहीं पीड़िता के पिता का कहना है कि आसाराम की तरह गवाह का हत्यारोपी नारायण पाण्डेय भी बीमारी का ड्रामा कर रहा है। उनका कहना है कि पिछले कई दिनों से आसाराम के कई गुर्गे शहर में घूमकर पत्रिकाएं बांट रहे है। उन्होंने आशंका जताई है कि इलाज के बहाने नारायण पाण्डेय और उसके गुर्गे पीड़िता और पीड़िता के परिवार के खिलाफ षड़यंत्र रच सकते है और उनकी हत्या भी की जा सकती है।

बीमारी का बनाया बहाना
पीड़िता के पिता का कहना है कि इससे पहले आसाराम भी एम्स मे बीमारी का बहाना बनाकर भर्ती हुआ था। लेकिन उसको कोई बीमारी नहीं थी। ऐसे ही नारायण पांडेय भी बीमारी का बहाना बनाकर लखनऊ मजे करने गया है। डॉक्टरों ने मिली भगत से उसको लखनऊ रेफर कर दिया हे। वहां पर भर्ती होकर वह मेरी हत्या का प्लान बनाएगा।

केजीएमसी रेफर
डॉक्टर अनिल राज ने बताया कि आज उसे डाक्टरों ने एमआरआई और सीटी स्कैन की सलाह देने की बात कहते हुए लखनऊ के केजीएमसी अस्पताल रेफर किया गया है।

आपको बता दें कि नारायण पांडे पिछले 2 साल से जिला कारागार में बंद है। कड़ी सुरक्षा के बीच में उसका इलाज चल रहा है। दरअसल, गवाह कृपाल सिंह की हत्या आरोप में बंद नारायण पांडे ने रात में अचानक हालत बिगड़ने की बात कही। जिसके बाद उसे कड़ी पुलिस सुरक्षा व्यवस्था के बीच में उसे जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां उसका इलाज शुरू कर दिया गया लेकिन इस दौरान नारायण पांडे मामले की सीबीआई जांच और खुद का नारको टेस्ट कराने की मांग करता नजर आया। आसाराम यौन शोषण की शिकार पीड़िता शाहजहांपुर की ही रहने वाली है। इसी मामले के मुख्य गवाह कृपाल सिंह की 2015 में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गवाह की हत्या में नारायण पांडे और कार्तिक को नामजद किया गया था। जिसके बाद नारायण पांडे को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया था। फिलहाल डॉक्टरों ने उसे लखनऊ के केजीएमसी अस्पताल रेफर कर दिया।

    Tags: