एक हजार पेड़ लगाने के बराबर है एक सोलर प्लांट लगाना : बृजेश पाठक

विधायी एवं न्याय, अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि 2017 में प्रदेश में योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में सरकार बनाने के बाद हमने वैकल्पिक ऊर्जा नीति बनाई।

लखनऊ: विधायी एवं न्याय, अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि 2017 में प्रदेश में योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में सरकार बनाने के बाद हमने वैकल्पिक ऊर्जा नीति बनाई।

सोलर रूफ टॉफ में भारत सरकार सब्सिडी दे रही है, उत्तर प्रदेश सरकार उस पर अलग से सब्सिडी दे रही है। एक हजार पेड़ लगाने के बराबर, एक सोलर प्लांट लगाना है। सोलर ऊर्जा को आगे बढ़ाने से हम अपना आने वाला कल सुरक्षित करेंगे।

ये भी पढ़ें…‘ब्रायफेंड को वियाग्रा खिलाकर जबरन संबंध बनाती थी गर्लफ्रेंड, ऐसी है खौफनाक कहानी

1100 मेगावॉट सौर ऊर्जा किया उत्पादन

ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी- 2 के तहत इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के प्लूटो हॉल में आयोजित पॉवर एंड रिन्यूबल एनर्जी के सत्र में निवेशकों संबोधित करते हुए बृजेश पाठक ने कहा कि सोलर रूफ टॉप के माध्यम से हमने 1100 मेगावॉट सौर ऊर्जा का उत्पादन किया है।

बृजेश पाठक ने कहा कि हम लोगों को तय करना पड़ेगा कि कैसे हम अपनी बिजली का उत्पादन खुद करें। बुंदेलखंड के ग्रीन कॉरीडोर में सोलर प्लांट में 5500 करोड़ का निवेश आने वाला है। उत्तर प्रदेश सरकार अपनी हर परियोजना को पूरी करने के लिए प्रतिबद्ध है।

इसी कार्यक्रम में श्रीकांत शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश बदल रहा है और आगे बढ़ रहा है। पहले यूपी में बिजली आती नहीं थी, अब जाती नहीं है। पहले यहां बिजली चोरी शिष्टाचार हुआ करता था। दो साल में हमने ढाई लाख से ज्यादा रेड करके बिजली चोरी पकड़ी है। 2 सालों में एटीएनसी लॉस में 9 प्रतिशत की कमी आई है।

बिजली इंडस्ट्री की लाइफलाइन है

श्रीकांत शर्मा ने कहा कि बिजली इंडस्ट्री की लाइफलाइन है। जिन्हें बिजली मिलती रहे इसके लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। अब उत्तर प्रदेश की पहचान अंधेरा नहीं, उजाला है।

योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में हमने यूपी के बारे में बना परसेप्शन बदला है। हर जिले में बिजली चोरी रोकने के लिए थाने खोलने की व्यवस्था की जा रही है।

उन्होंने कहा कि यूपी में पिछली सरकारों तक ग्रामीणों को मोबाईल चार्ज करने के लिए 5-10 किमी. तक जाना होता था। आज गांव में 18 घंटे बिजली मिल रही है। यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के दृढ़संकल्प की ही देन है।

श्रीकांत शर्मा ने कहा कि ट्रांसमिशन के क्षेत्र में आने वाले 5 सालों में 20 हजार करोड़ का निवेश आएगा। कार्यक्रम में शामिल निवेशकों से अनुरोध करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने के लिए यहां निवेश करें।

इस दौरान प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जब से नई सरकार बनी है, तब से हम लगातार प्रयास कर रहे हैं कि बिजली की व्यवस्था दुरुस्त हो। अब इसके परिणाम भी दिखने लगे हैं। अब यूपी में करीब 22 हजार मेगावाट बिजली की सप्लाई हो रही है। वैकल्पिक ऊर्जा के क्षेत्र में हम नई पॉलिसी लेकर आए हैं, जिसकी वजह से काफी निवेश आ रहा है।

कार्यक्रम में ज्वाइंट प्रेसिडेंट अडानी ट्रांशमिशन लिमिटेड के विवेक सिंगला, चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर एमपल्स एनर्जी सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड के गुरु इंदर मोहन सिंह, वाइस प्रेसिडेंट रेन्यू पॉवर लिमिटेड के शशांक अदलखा, मैनेजिंग डायरेक्टर आनंद मंगला इन्फ्रा. डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड के अमित प्रकाश, डायरेक्टर इंडियन रेन्यूबल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी के चिंतन शाह ने भी लोगों को संबोधित करते हुए अपने विचार रखे।

ये भी पढ़ें…19 महीने की जेल में 17 महीने अस्पताल में काट चुके हैं लालू यादव!