यूपी के बलरामपुर में विहिप के भोलेन्द्र ने दी त्रिशूल दीक्षा, बंटी कृपाण जैसी चीज

यूपी के बलरामपुर में विहिप के भोलेन्द्र ने दी त्रिशूल दीक्षा, बंटी कृपाण जैसी चीज

बलरामपुर: यूपी के बलरामपुर में बजरंग दल दबे पांव जगह जगह त्रिशूल दीक्षा का आयोजन कर बजरंग दल के नये कार्यकर्ताओं को राम मंदिर निर्माण का संकल्प दिला रहा है। जिला मुख्यालय के हनुमानगढ़ी मंदिर सभागार में त्रिशूल दीक्षा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। विश्व हिन्दू परिषद अवध प्रांत के प्रांत संगठन मंत्री भोलेन्द्र ने युवाओं को 1992 में हुए बाबरी विध्वंस की कहानी बताकर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं में जोश भरा और और म्यान में रखी त्रिशूल दीक्षा दी।

यह भी पढ़ें …….अयोध्या के पहले बीएचयू से राम मंदिर के लिए उठेगी आवाज, विहिप ने कसी कमर

 जिले में बजरंग दल के दो हजार कार्यकर्ताओं की भर्ती होनी है जिसमें से करीब ग्यारह सौ युवा त्रिशूल दीक्षा लेकर बजरंग दल के कार्यकर्ता बन चुके हैं। दीक्षा कार्यक्रम में प्रान्त संगठन मंत्री भोलेन्द्र ने कार्यकर्ताओं को शपथ दिलाकर त्रिशूल (म्यान में रखी हथियार जैसी चीज) भेट की। त्रिशूल दीक्षा के दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए विहिप अवध प्रांत के प्रांत संगठन मंत्री भोलेन्द्र ने कहा कि न्यायालय हमारे सामने चुनौती बनकर खड़ा है जिस प्रकार निर्णय के इंतेजार में हिन्दू समाज को कलंकित ढ़ाचा ढ़हाना पड़ा था। वैसे ही मंदिर हम बनाएंगे।

यूपी के बलरामपुर में विहिप के भोलेन्द्र ने दी त्रिशूल दीक्षा, बंटी कृपाण जैसी चीज

यह भी पढ़ें …….त्रिशूल से लैस बजरंग दल के 25 हजार सैनिक राम मंदिर के लिए कभी भी कर सकते हैं अयोध्या कूच: विहिप

68 साल से न्यायालय के फैसले की प्रतीक्षा करते करते तीन मिनट में मामला टाल दिया और सुनने को तैयार नहीं है तो हिन्दू समाज भी अपना निर्णय सुनाने के लिए तैयार है। उन्होने कहा कि हिन्दू समाज 25 नवम्बर को अयोध्या में पहुंचकर अपना निर्णय सुनाने वाला है। राम भक्तों को अब राम मंदिर चाहिए।

यह भी पढ़ें …….सोमनाथ की तर्ज पर राम मंदिर के लिए कानून लाए सरकार : विहिप

संगठन मंत्री भोलेन्द्र ने कहा कि जिस प्रकार सुप्रीम कोर्ट के जज ने हिन्दू समाज को तमाचा मारा है वह हिन्दू समाज अब सहन करने की स्थिति में नहीं रह गया है। उन्होनें नौजवान साथियों से अपील की कि जिस तरह ढांचा हटाया है उसी प्रकार से भव्य राम मंदिर बनाने की घड़ी आ गई है।

यह भी पढ़ें …….लगभग खत्म हो चुके हैं विहिप सुप्रीमो प्रवीण भाई तोगडिय़ा के दिन