यूपी सियासी तूफान: 24 घंटे तक सियासतदानों की अटकी सांसें

योगी सरकार के ढाई साल के कार्यकाल में अगस्त का तीसरा रविवार जहां एक तरफ मौसम के लिहाज से बेहद गरम रहा। वहीं राजनीति के लिहाज से योगी सरकार के लिए सबसे गरम दिन रहा।

cabinet expansion

cabinet expansion

लखनऊ: योगी सरकार के ढाई साल के कार्यकाल में अगस्त का तीसरा रविवार जहां एक तरफ मौसम के लिहाज से बेहद गरम रहा। वहीं राजनीति के लिहाज से योगी सरकार के लिए सबसे गरम दिन रहा।राजधानी लखनंऊ से लेकर जिले तक और जिले से लेकर गांव तक। बस एक ही चर्चा थी कि आखिर सोमवार को होने जा रहे योगी मंत्रिमंडल के फेरबदल में उनके क्षेत्र के विधायक को मंत्री पद मिल रहा है कि नहीं और मिल रहा है तो उनके विधायक कौन से विभाग के मंत्री बनेंगे ?

सोशल मीडिया और इलेक्ट्रिनिक मीडिया में शुरू हुआ यह खेल

मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर रविवार सुबह से ही सोशल मीडिया और इलेक्ट्रिनिक मीडिया में शुरू हुआ यह खेल देर रात तक चलता रहा।

ये भी पढ़ें…आजम खान के स्कूल के खिलाफ कार्रवाई पर हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा ये सवाल?

देर रात तक जारी रहा फोन आने का सिलसिला

राजभवन से लेकर मुख्यमंत्री कार्यालय से जुडे अधिकारियों तक फोन आने जाने का सिलसिला जारी रहा। पार्टी कार्यकर्ता भी अपने मनचाहे तरीके से लोगों को कहानी बताते रहे।

कई न्यूज चैनलों मेंऐसी खबरें भी चली जिसमें मंत्रियों के नाम तक बता दिए गए। पूरे दिन मीडिया में भी इस बात की होड़ लगी रही कि उनके पास शपथग्रहण समारोह सोमवार पूर्वान्ह 11 बजे होने की पुख्ता जानकारी है।

जबकि मीडिया से जुड़ा दूसरा वर्ग इस बात का खंडन करता रहा कि ऐसा कोई कार्यक्रम फिलहाल नही होने जा रहा है। किसी ने कहा कि मंत्रियों और विधायकों को सोमवार को लखनऊ में ही बने रहने को कहा गया है।

ये भी पढ़ें…हाॅलीवुड में आगरा की बेटी का जलवा, फिल्मों में दिखेगा हुनर

राजभवन के स्टाफ तक को नहीं थीं  शपथ ग्रहण समारोह की जानकारी

वहीं भाजपा के कई नेता इस बारे में अपनी अनभिज्ञता जताते रहे। सब मिलाकर पूरे दिन तरह-तरह की चर्चाए होती रही।

मजेदार बात यह रही कि शपथ ग्रहण समारोह को लेकर राजभवन के स्टाफ को कोई जानकारी नहीं थी।

लेकिन राजभवन के बाहर शपथग्रहण समारोह सोमवार को सुबह 11 बजे होने की बाते चलती रहीं।

रविवार सुबह सत्ता के गलियारों में मंत्रिमंडल विस्तार की यह खबर देर रात चलती रही।

योगी मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर उनके ढाई साल के कार्यकाल में यह 11वीं बार हुआ है,जब इस तरह की बात जनता के सामने आई हो।

जबकि सरकार गठन के इतने दिनों बाद अभी तक कोई भी मिं़त्रमंडल में फेरबदल नहीं हुआ है।

ये भी पढ़ें…अचानक क्यों बढ़ने लगी है काशी विश्वनाथ की आय, जानिए क्या है इसका राज