इस होटल में खास थीम पर थी ये पार्टी, ड्रेस कोड से लेकर सब कुछ था ‘आम’

आम के मौसम के स्वागत की खुशी दिखाई दी सबके चेहरे पर

लखनऊ: आम का नाम सुनते ही हर किसी के मुंह में पानी आ जाता है। इसके बारे में सोचकर ही मानो आम की मिठास मुंह में घुलने लगती है। जब आम के नाम से ही मन में इतना लालच आता है, तो जरा एक बार यह सोचकर देखिए कि उस पार्टी का नजारा कितना ज्‍यादा खूबसूरत होगा, जहां का पार्टी ड्रेस कोड ही मैंगो कलर हो। जी हां, आम का सीजन आने वाला है और इसका खुमार लक्षिका ग्रुप की महिलाओं पर जोर-शोर से दिख रहा है। शुक्रवार को लखनऊ के कैपेचीनो ब्लास्ट में हुई मैंगो थीम की पार्टी में हर कोई आम के रंगों पीले और हरे में दिखाई दिया। मैंगो थीम पार्टी के इस मौके पर करीब 120 महिलाओं ने हरे पीले रंग की साड़ी पहनकर आम की तरह नजर आई।

सम्‍मानित की गई महिलाएं
-कार्यक्रम की शुरुआत गणेश वंदना से हुई।
-महिलाओं के लिए अलग-अलग प्रतियोगिताएं भी रखी गई।
-जिनमें दिलचस्प गेम्स जैसे पास दा मैंगो, मैंगो स्टिकर हॉउसी हुई।
-संयोजक ऊषा अग्रवाल व रीतू अग्रवाल ने सेंट जोजफ की प्रिंसिपल पुष्पलता अग्रवाल और ज्योति चरण साहनी को सम्‍मानित किया।
-इन्‍होंने अनाथों व गरीब बच्चों के हित में कई सामाजिक काम किए हैं।

mango, party
कुछ यूं छाया आम का खुमार

चुनी गई मैंगों क्‍वीन और गेम्‍स क्‍वीन
-गेम्स में मैंगो क्वीन शालिनी टंडन और रेनू गर्ग को चुना गया।
-वहीं ज्योति चौधरी और कलिका चौधरी ने गेम्स में बाजी मारी।

गरीबों व कल्‍चर की सेवा के लिए है लक्षिका ग्रुप
-लक्षिका ग्रुप की आशा पाठक व अध्‍यक्ष सुषमा चौधरी का कहना है कि आजकल लोग अपने कल्‍चर को भूलते जा रहे हैं।
-ऑफिस जाने वाली लड़कियों को भारतीय नारी की तरह कम सजना पसंद करती हैं।
-जबकि सिंदूर लगाना और बिछुए वगैरह पहनना तो भारतीय नारी का प्रतीक है।
-ऐसी ही तमाम लड़कियों को समझाने का काम भी यह ग्रुप करता है।

mango party special
जब ख़ास भी नजर आए आम

-वहीं यह भी बताती हैं कि ये ग्रुप उन गरीब बच्‍चों और महिलाओं के लिए ऐसे इवेंट हर साल आर्गनाइज करेगा।
-ताकि उनके जीवन में खुशियां लाई जा सकें और उन्‍हें कल्‍चर से भी रूबरू कराया जा सके।
-त्योहारों को जीवित रखने व शिक्षा सहित सामाजिक कार्यक्रमों में महिलाओं की बढ़ती भूमिका को देखते हुए इस ग्रुप का गठन किया गया है।

mangotheme party
कुछ यूं बनाया पलों को यादगार