मुलायम बोले-कारसेवकों पर गोली चलवाने का अफसोस, जरूरी था धर्मस्थल बचाना

Published by Newstrack Published: January 25, 2016 | 12:28 pm
Modified: August 10, 2016 | 2:25 am

लखनऊ: सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने अयोध्या में कारसेवकों पर गोली चलाए जाने पर अफसोस जताया है। उन्होंने कहा, “अयोध्या में कारसेवकों पर फायरिंग करवाने का मुझे दुख है। लेकिन, धर्मस्थल को बचाना जरूरी था।” रविवार को लखनऊ में एक प्रोग्राम के दौरान मुलायम ने कहा, ”पार्लियामेंट में तत्कालीन नेता विपक्ष अटल बिहारी वाजपेयी ने इस घटना का जिक्र किया था। मैंने उन्हें यह जवाब दिया था कि धर्मस्थल बचाने के लिए गोली चलाई गई थी। अगर धर्मस्थल को बचाने में और भी जानें जातीं, तब भी मैं पीछे नहीं हटता। इसीलिए बाद में मैंने नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे दिया था।”

क्या था पूरा मामला?
* 30 अक्टूबर 1990 को हजारों कारसेवक अयोध्या पहुंचे और विवादित ढांचे के ऊपर भगवा ध्वज फहरा दिया।
* 2 नवंबर 1990 को मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने कारसेवकों पर गोली चलाने का आदेश दिया। कारसेवकों की मौत हो गई थी।
* 4 अप्रैल 1991 को उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने इस्तीफा दिया।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App