यूपी विधानसभा में विपक्ष का जोरदार हंगामा, सदन की कार्यवाही पांच बार हुई बाधित

विधानसभा में आज विपक्ष के जोरदार हंगामे के चलते सदन पूरी तरह से अव्यवस्थित रहा है। मानसून सत्र के दूसरे दिन प्रदेश के सोनभद्र की घटना को लेकर खासा हंगामा रहा।

लखनऊ:विधानसभा में आज विपक्ष के जोरदार हंगामे के चलते सदन पूरी तरह से अव्यवस्थित रहा है। मानसून सत्र के दूसरे दिन प्रदेश के सोनभद्र की घटना को लेकर खासा हंगामा रहा।

सुबह 11 बजे सदन की कार्यवाही शुरू होते ही जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस घटना को लेकर सरकार का पक्ष रखना चाहा तो विपक्ष के सदस्य इस मुद्दे पर अपना पक्ष रखने की बात करने लगे।

इस पर विधानसभा अध्यक्ष हदयनारायण दीक्षित ने कहा कि पहले नेता सदन बोल ले इसके बाद विपक्ष को मौका मिलेगा। लेकिन विपक्ष इस पर तैयार हुआ।

ये भी पढ़ें…प्रियंका गांधी को सोनभद्र जाने से रोका गया, अपने समर्थकों संग धरने पर बैठी

सदन की कार्यवाही पांच बार हुई बाधित

इसी बीच विपक्ष के सदस्यों द्वारा शोरशराबा और हंगामा होने पर सदन की कार्यवाही 12ः20 तक के लिए स्थगित कर दी गयी। इस बीच विपक्ष के सदस्य सरकार पर मनमानी का आरोप लगाते हुए वेल में आ गए और धरना देकर बैठ गए जबकि बहुजन समाज पार्टी के सदस्य आसन पर खड़े होकर अपना विरोध दर्ज कराते रहे। विपक्ष के शोरशराबे के चलते आज प्रश्नकाल नहीं हो सका।

हंगामें के चलते ही सदन की कार्यवाही लगभग दो घंटे तक बाधित रही। इस बीच सदन की कार्यवाही पांच बार बाधित हुई। बीच में सदन व्यवस्थित होते ही नेता प्रतिपक्ष रामगोबिन्द चौधरी ने सोनभद्र की घटना सहित प्रदेश की कानून व्यवस्था पर बोलना चाहा।

उसी दौरान संसदीय कार्यमंत्री सुरेश कुमार खन्ना तथा औद्योेगिक विकास मंत्री सतीश महाना द्वारा टोकाटाकी किए जाने के बाद दोनों पक्षों में नोंकझोंक बढ़ती देख विधानसभाध्यक्ष हदय नारायण दीक्षित ने सदन की कार्यवाही कुछ देर के स्थगित कर दी।

ये भी पढ़ें…सोनभद्र हत्याकांड का मुख्य आरोपी ग्राम प्रधान यज्ञदत्त गिरफ्तार

नेता प्रतिपक्ष ने सोनभद्र की घटना पर उठाये सवाल

सदन की कार्यवाही पुन शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष ने सोनभद्र की घटना सहित प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर सरकार को कठघरे में खड़़ा किया। नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चैधरी ने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त है।

सरकार अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाए विपक्ष के लोगों को उत्पीड़ित और प्रताड़ित कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार के इशारे पर सपा के वरिष्ठ नेता मो0 आजम खां के खिलाफ एफआरआई दर्ज कराकर उन्हे भूमाफिया घोषित कर रही है।

उन्होंने कहा कि सपा नेताओं के खिलाफ उत्पीड़न की कार्रवाई करके सरकार विपक्ष के लोगो को डराने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार के इशारे पर सपा नेता मो. आजम खां,बसपा नेता आनंद कुमार,और कांग्रेस की नेत्री प्रियंका गांधी के खिलाफ भी बदले की भावना से उत्पीड़न की कार्रवाई कर रहे है। उन्होंने कहा कि सरकार की इस तरह की कार्रवाई से विपक्ष के सदस्य डरने वाले नहीं है।

उन्होंने कहा कि ईवीएम माता की कृपा से बहुमत में आई सरकार सत्ता के दंभ में सारी मर्यादाओं का दरकिनार कर विपक्ष के लोगों को प्रताड़ि़त कर रही है। जवाब में संसदीय कार्यमंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चैधरी कानून व्यवस्था को लेकर जो भी आरोप लगा रहे है वे निराधार है।

ये भी पढ़ें…सोनभद्र: जमीन के विवाद में चली गोली, 9 की मौत व 20 घायल

संसदीय कार्यमंत्री सुरेश कुमार ने आरोपों से किया इंकार 

उन्होंने कहा कि लगाए जा रहे आरोपों में कोई तथ्य नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि नेता प्रतिपक्ष सदन में खड़े होकर चैराहों की भाषा बोल रहे है। इसी के साथ प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर संसदीय कार्यमंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्ष के सारे आरोपों को निराधार बताया। उन्होंने कहा कि सोनभद्र और संभल की घटना को लेकर आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई कर रही है।

दोनों घटनाओं में जिम्मेदार अधिकारियों कर्मचारियों के खिलाफ भी प्रभावी कार्रवाई की गयी है। कानून व्यवस्था के मुद्दे पर कांग्रेस की सदस्य आराधना मिश्रा ने कहा कि प्रदेश में जब से भारतीय जनता पार्टी की सरकार सत्तारूढ़ हुयी है।

तब से दलितों, आदिवासियों और गरीब तबके के लोगों का उत्पीड़न दिन प्रतिदिन बढ़ता रहा है। सत्तारूढ़ दल के संरक्षण प्राप्त अराजक तत्वो के निशाने पर इन समुदायों के लोग है। सरकार के जवाब से असंतुष्ट सपा सदस्य वेल में आ गए और बाद में सपा के सदस्यों सदन से वाकआउट किया।

सदन में ही बसपा सदस्य लालजी वर्मा ने शुक्रवार को टाण्डा में एक हत्या का मामला उठाया जिस पर संसदीय कार्य मंत्री ने कार्रवाई का आश्वासन दिया। सदन मेें आज चार विधेयक पारित किए गए। सदन में विधानसभा अध्यक्ष ने विधायी कार्य निपटाते हुए सदन की कार्यवाही सोमवार 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।