उन्नाव रेप केस: बीजेपी ने कुलदीप सिंह सेंगर को पार्टी से किया निष्कासित

उन्नाव रेप केस में कोर्ट ने जांच की स्टेटस रिपोर्ट और एक्सिडेंट में अब तक हुई सीबीआई जांच की रिपोर्ट 12 बजे तक मांगी थी। जिसके बाद कोर्ट ने सीबीआई को तलब किया।

Published by Manali Rastogi Published: August 1, 2019 | 12:41 pm
Modified: August 1, 2019 | 10:05 pm

कुलदीप सिंह सेंगर

लखनऊ: उन्नाव रेप केस के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को भारतीय जनता पार्टी ने पार्टी से निकाल दिया है। बता दें, बीजेपी पहले भी कुलदीप सिंह को पार्टी से निलंबित कर चुकी है। हालांकि, रेप पीड़िता के साथ हुई सड़क दुर्घटना के बाद बीजेपी ने उन्हे पार्टी से निकाल दिया।

यह भी पढ़ें: देखें तस्वीरें, अभिनेत्री अनन्या पाण्डे पहुंची आईटी गर्ल्स कॉलेज, फेंस ने की खुशी जाहिर

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली ट्रांसफर किया मामला

मालूम हो, सुप्रीम कोर्ट ने उन्नाव रेप केस में सभी मामलों को दिल्ली ट्रांसफर करने का आदेश दे दिया है। कोर्ट के आदेश के अनुसार, उन्नाव रेप केस के सारे मामले उत्तर प्रदेश से दिल्ली ट्रांसफर कर दिये गए हैं। इसके साथ ही, इस मामले को लेकर कोर्ट के चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई ने अब तक हुई जांच और रायबरेली में इसी हफ्ते हुई सड़क दुर्घटना को लेकर पूरी जानकारी मांगी है।

सूप्रीम कोर्ट ने मांगी लटेस्ट रिपोर्ट

उन्नाव रेप केस में कोर्ट ने जांच की स्टेटस रिपोर्ट और एक्सिडेंट में अब तक हुई सीबीआई जांच की रिपोर्ट 12 बजे तक मांगी थी। जिसके बाद कोर्ट ने सीबीआई को तलब किया। चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली बेंच ने इस मामले को लेकर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि सीबीआई के किसी जिम्मेदार अधिकारी को 12 बजे तक बुलाने को कहा था।

यह भी पढ़ें: महिला ने भरी पंचायत में पति पर लगाया तलाक देने का आरोप, पुलिस जांच में जुटी

उन्नाव रेप केस में आया नया मोड़

वैसे इस मामले में नया मोड़ आया है। उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुए सड़क दुर्घटना मामले में पीड़िता के चाचा ने एफआईआर दर्ज करवा दी है। इस एफआईआर में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर सहित नौ अन्य के खिलाफ हत्या, हत्या की कोशिश और षडयंत्र की धाराएं लगाई गई हैं। बता दें, इस एफआईआर में यूपी सरकार में मंत्री धुन्नी सिंह के दामाद अरुण सिंह का नाम भी शामिल है।

अरूण सिंह ने खुद को बताया बेगुनाह

अमरनाथ यात्रा पर गए अरूण सिंह का इस मामले में कहना है कि वह बेगुनाह है। उन्होने कहा कि, ‘’यह मुझे फंसाने की नीयत से किया गया है। मेरी लोकेशन ले ली जाये, मेरा नार्को टेस्ट करवा लिया जाये, मेरा पिछले छह माह का ट्रैक रिकार्ड लिया जाये। कहीं कोई कनेक्शन आता हो तो बतायें। मुझे विश्वास है कि मेरा दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है। मैं सीबीआई को पूरा सहयोग करूंगा। जो भी जांच एजेंसी होगी, मेरी जांच होनी चाहिये, मैं खुद इंसाफ मांग रहा हूं। मुझे साजिशन फंसाया जा रहा है, मैं अपराधी नही हूं, मेरे ऊपर एक भी पुराना आपराधिक मामला नहीं है।’

यह भी पढ़ें: FriendshipDay ज्ञान: ‘चरम सुख’ की तलाश है, तो यहां हम दे रहे हैं 5 मारक टिप्स

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App