यूपी के कई जिलों में भारी बारिश की वजह से पैदा हुए बाढ़ के हालात

लखनऊ: पिछले कई दिनों से लगातार हो रही बारिश की वजह से उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई है। राज्य के कई जिलों में नदियों का जलस्तर काफी बढ़ गया है। इससे दर्जनों गांव बाढ़ से घिर गए हैं। ऐसी स्थिति में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें: ICC World Cup 2019: इंग्लैंड-न्यूजीलैंड के बीच फाइनल आज, कड़ा होगा मुकाबला

बता दें, सरयू नदी का जलस्तर चेतावनी का निशान अयोध्या जिले में पार कर चुका है। आज सुबह नदी का जलस्तर 91.86 मीटर दर्ज किया गया है। इसकी वजह से तटवर्ती इलाकों में हड़कंप मच गया है। ऐसे में स्थानीय लोगों ने पलायन शुरू कर दिया है।

सबसे खराब हालात में बहराइच

यूपी के बहराइच की स्थिति सबसे ज्यादा खराब है। दरअसल, यहां नेपाल में हो रही बारिश का असर भी देखने को मिल रहा है। यहां 24 गांव बाढ़ के पानी से घिर गए हैं। यह सभी गांव शिवपुर ब्लॉक के हैं।

यह भी पढ़ें: कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस ने तेज की बागी विधायकों को मनाने की कोशिश

मिहीपुरवा के तीन गांवों में पानी घुस गया है। घाघरा भी एक सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही है। प्रशासन ने बाढ़ की आशंका को देखते हुए अलर्ट जारी कर दिया है। एसडीएम महसी ने तटवर्ती गांवों का भ्रमण कर स्थिति का जायजा लिया है।

बलरामपुर में भी ख़राब है स्थिति

बलरामपुर में बारिश से पहाड़ी नाले में बाढ़ आ गई है, जिसकी वजह से 30 से अधिक गांव पानी से घिर गए हैं। राप्ती नदी खतरे के निशान 103 620 से 88 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है। तुलसीपुर-गौरा मार्ग सहित कई प्रमुख मार्गो पर आवागमन बाधित है। कुछ स्थलों पर नौका लगाकर ग्रामीणों के आवागमन की व्यवस्था की गई है।

यहां दो सेंटीमीटर प्रति घंटे की दर से बढ़ रहा पानी

घाघरा नदी का जलस्तर बाराबंकी में दो सेंटीमीटर प्रति घंटे की दर से बढ़ रहा है। नदी की कटान रामनगर क्षेत्र के कचनापुर, कोरिनपुरवा, जियनपुरवा, सिरौलीगौसपुर के ग्राम टेपरा व तेलियानी में हो रही है। श्रावस्ती में राप्ती नदी खतरे के निशान से पांच सेमी ऊपर बह रही है. कई अन्य प्रमुख रास्तों पर आवागमन ठप हो गया है।

बाढ़ की चपेट में हैं 16 गांव

जिले में सरयू नदी की एक शाखा सटकर बहती है। यहां तीन दिनों से काफी तेज बारिश हो रही है, जिसकी वजह से नदी का जलस्तर बढ़ गया है। ऐसे में बाढ़ की चपेट में सदर तहसील क्षेत्र के शेखदहीर, पिपरिया महिपालसिंह, आगापुरवा, सिसई हैदर, मुल्लापुरवा, सराय मेहराबाद, यादवपुर, त्रिवेदीपुरवा सहित 16 गांव आ गए हैं। इसकी वजह से तकरीबन 28 हजार की आबादी प्रभावित है।

यहां भी बढ़ा नदियों का जलस्तर

गंगा की कई सहायक नदियों का जलस्तर भारी बारिश की वजह से तेजी से बढ़ रहा है। वाराणसी की बात करें तो यहां गंगा का जलस्तर महज एक दिन में बढ़ने से लगा है। गंगा का जलस्तर वाराणसी में 0.7 मीटर बढ़ गया है, जिसके बाद गंगा चेतावनी के स्तर से मात्र 10.60 मीटर ही रह गई है।

बाढ़ की चपेट में गोमती नदी

गोमती नदी भी बाढ़ की चपेट में आ गई है। लखनऊ से सटे बीकेटी और इटौंजा के लगभग 12 गांव गोमती नदी में बाढ़ के कारण प्रभावित होने के कगार पर हैं। जमखनवां का पुरवा, दुघरा, जमखनवां, अचलपुर, अकरडिया कला, लाशा, सुल्तानपुर, बहादुरपुर, मल्लाहन खेड़ा, चंद्रिका देवी तीर्थस्थल, अकरडिया खुर्द जैसी जगहें बाढ़ से प्रभावित होने की कगार पर हैं।

यह भी पढ़ें: साक्षी के पति ने नहीं रखी दोस्ती की इज्जत, सामने आई ये तस्वीरें