आजम ने की इस्तीफे की पेशकश और मुलायम हुए मौर्या 

Published by Admin Published: February 26, 2016 | 5:34 pm
Modified: August 10, 2016 | 2:26 am

लखनऊ: टीवी टुडे के पत्रकारों के भेजे गए पत्र पर विधानसभा में शुक्रवार को चर्चा शुरू हुई तो बीजेपी ने एक बार फिर खुद को इससे अलग रखने की बात कही। इसी दौरान संसदीय कार्य मंत्री आजम खां ने अपने इस्तीफे की पेशकश कर सबको हैरत में डाल दिया। इस पर विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडे ने उन्हें यह कह कर बिठाया कि इस्तीफे की कोई जरूरत नहीं है। इस दौरान नेता विरोधी दल स्वामी प्रसाद मौर्या मुलायम दिखे और उन्होंने आजम की इस प्रतिक्रिया को स्वाभाविक बताते हुए कहा कि वह अपनी छवि को र्इमानदारी से यहां तक लेकर आए हैं।

क्या कहा संसदीय कार्य मंत्री आजम खां ने
आजम ने कहा कि राष्ट्रवाद की परिभाषा पर पूरे देश में बहस हो रही है। उन्होंने कहा कि “Concept of Oneness” से पूरे नेशन को एक किया गया। लोकतंत्र के असल मायनों को अभी तक हिंन्दुस्तान समझ ही नहीं सका है। आजादी के पहले राष्ट्रवाद पहला कांसेप्ट था और 1947 में देश आजाद हुआ। पर आज जो राष्ट्रवाद का मतलब निकाला जा रहा है, वह नहीं है। स्टिंग को मेरा नाम दिया गया ताकि ज्यादा से ज्यादा बदनाम किया जा सके। मैं कहता हूं कि मैं मजबूत इरादे का हूं। मैं तो बच गया पर हो सकता है कि कोई कमजोर न बचे।

इस्तीफा लेकर आए थे आजम
इस दौरान आजम ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें यह समझ नहीं आ रहा है कि उस दिन की प्रो​सीडिंग में बीजेपी पूरे दिन साथ थी पर उन्होंने इसी मुददे से खुद को अलग कर लिया। आजम ने कहा कि अगर सदन के एक भी सदस्य को इससे इत्तेफाक नहीं है तो वह अपना इस्तीफा साथ लेकर आए हैं। उन्‍होंने कहा कि वह अभी अपना इस्तीफा राज्य मंत्रिमंडल से दे रहे हैं।

आजम की पीड़ा देखकर बोले मौर्या-क्या स्टिंग भाजपा के इशारे पर किया गया?
इसके बाद नेता विरोधी दल स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा कि आजम खां की स्वाभाविक पीड़ा देखकर उन्हें कहना पड़ रहा है कि जब पूरा सदन एकमत है तो एक बड़ी पार्टी का सदन की राय से अलग राय रखना समझ में नहीं आ रहा है। क्या यह संदेश देना चाहते हैं कि स्टिंग आपरेशन बीजेपी के इशारे पर किया गया था? यदि नहीं तो जो दोषी पाए गए हैं, उनको बचाने का काम बीजेपी क्यों कर रही है।

बीजेपी का कृत्य निंदनीय
मौर्या ने कहा कि बीजेपी का यह कृत्य शक की सुई उनकी ओर ले जा रही है। बीजेपी पर साम्प्रदायिकता के जो आरोप लगाए जाते हैं, वह सब आरोप सही साबित हो रहे हैं।

बीजेपी ने किया आरोपों का खंडन
बीजेपी नेता सुरेश खन्ना ने मौर्या के आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि पार्टी का किसी से कोई संबंध नहीं है और उन्होंने नेता विरोधी दल के इस वक्‍तव्‍य की निंदा की। इसके बाद बीजेपी  के सदस्य वेल में आ गए और सरकार विरोधी नारेबाजी करने लगे। इसके कारण सदन की कार्यवाही 12:45 बजे 15 मिनट तक के लिए स्थगित करनी पड़ी।