मुश्किल में आजम: वक्फ बोर्ड मामले में जांच की सिफारिश कर सकती है योगी सरकार

Published by Rishi Published: April 6, 2017 | 4:05 pm
Modified: April 6, 2017 | 8:57 pm

लखनऊ: यूपी सरकार सेंट्रल वक्फ काउंसिल की रिपोर्ट के आधार पर पूर्व मंत्री और समाजवादी पार्टी नेता आजम खान के खिलाफ बड़ा एक्शन ले सकती है। वक्फ बोर्ड के मामले में सरकार जल्द ही आजम खान और उनकी पत्नी के खिलाफ जांच की सिफारिश कर सकती है।

यह भी पढ़ें…अवैध कब्जे के आरोपों पर बरसे आजम खान, खबर दिखाने वालों को भी धमकी दी

सेंट्रल वक्फ काउंसिल की रिपोर्ट में कहा गया है कि आजम खान और उनके परिवारजनों ने रामपुर में कब्रिस्तान और ईदगाह की भी जमीन पर भी कब्जा किया था। एक रुपए की लीज पर ली सरकारी जमीनों पर कब्जा कर जौहर ट्रस्ट के नाम से स्कूल खोल दिए गए।

यह भी पढ़ें…शिया वक्फ बोर्ड चेयरमैन वसीम रिज़वी के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा, आजम के हैं करीबी

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने अखिलेश सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे आजम खान पर वक्फ बोर्ड में घोटाले के गंभीर आरोप लगाए थे। कल्बे जव्वाद के मुताबिक, सिर्फ एक शहर में वक्फ बोर्ड की जमीनों में 400 करोड़ का घोटाला हुआ है। उन्होंने ने भी सीबीआई जांच की मांग भी की थी। आजम खान ईमानदार नहीं हैं। अगर होते तो वक्फ बोर्ड में बेईमानियां नहीं होतीं।

यह भी पढ़ें…HC ने पूछा-क्या वक्फ भूमि पर कॉलेज बना कर लड़कियों को फ्री शिक्षा देगी सरकार

अवैध कब्जे के आरोप
बता दें, कि केंद्रीय वक्फ बोर्ड के सदस्य और उत्तर प्रदेश के प्रभारी एजाज नकवी ने एक हफ्ता पहले रामपुर में वक्फ संपत्तियों की जांच के बाद कहा था कि आजम खां ने बड़े पैमाने पर वक्फ की संपत्तियों पर कब्जा किया है। उन्होंने इन घोटालों में शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी के शामिल होने की बात भी कही थी। नकवी ने कहा था कि सत्ता का दुरुपयोग करके कब्जाई गई जमीनों से अवैध कब्जे हटवाए जाएंगे और आरोपियों पर मुकदमे दर्ज होंगे।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App