×

सपा बसपा जोड़ो अभियान में लगीं ममता, अखिलेश के बाद मायावती से मिलेंगी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 19 Dec 2017 4:56 PM GMT

सपा बसपा जोड़ो अभियान में लगीं ममता, अखिलेश के बाद मायावती से मिलेंगी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

योगेश मिश्र योगेश मिश्र

कह रहीम कैसे निभें केर बेर के संग, वे डोलत रस आपनों उनके फाटत अंग!!

उत्तर प्रदेश की सियासत में रहीम दास के इस दोहे को सार्थक साबित करने वाली सपा और बसपा के रिश्तों और रहीम के इस दोहे को गलत साबित करने में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इन दिनों जुटी हैं। वह अगले लोकसभा चुनाव के लिए सपा और बसपा के बीच मध्यस्थता की भूमिका मे इन दिनों हैं। उनकी कोशिश इन दोनों दलों के बीच एका कराकर नरेंद्र मोदी के अश्वमेघ रथ को उत्तर प्रदेश में रोकने की है।

पिछले लोकसभा चुनाव में सहयोगियों के साथ 73 सीटें मिली थीं। मायावती का हाथी शून्य पर सिमट गया था कांग्रेस के पास सिर्फ दो हाथ बचे थे। समाजवादी पार्टी भी परिवार तक सिमट गयी थी। भारतीय जनता पार्टी को स्पष्ट बहुमत की सरकार बनाने का अवसर उत्तर प्रदेश की इन 73 सीटों ने दिया था। किसी भी स्पष्ट बहुमत की सरकार बनाने के लिए उत्तर प्रदेश में 50 से अधिक सीटें चाहिए। ममता बनर्जी जानती हैं कि उनके प्रदेश में बीजेपी कोई बड़ा स्कोर नहीं खड़ा कर सकती है।

पश्चिम बंगाल की 42सीटों में फिलहाल बीजेपी के पास 2 ही सीटें हैं। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 325 सीटें मिली थीं जबकि 2014 के विधानसभा चुनाव में वह विधानसभा के लिहाज से भी तकरीबन इतनी ही सीटों पर आगे थी। उत्तर प्रदेश पहला प्रदेश है जहां लोकसभा से विधानसभा के तकरीबन ढाई साल में भाजपा के ग्राफ में कोई अंतर नहीं आया है। इसलिए ममता की नज़रें उत्तर प्रदेश पर टिकी हैं। ममता के सपा और बसपा जोड़ो अभियान के तहत ही पिछले दिनों पूर्व मुख्यमंत्री और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ममता बनर्जी से मुलाकात की थी। भरोसेमंद सूत्रों की माने तो जल्दी ही ममता बनर्जी की मुलाकात बसपा सुप्रीमो से होने वाली है।

सूत्रों के मुताबिक ममता की कोशिश दोनों को बराबर सीटों पर अगले लोकसभा चुनाव के लिए तैयार करना है। मायावती अपना वोट ट्रांसफर कराने की माहिर मानी जाती है पर सपा ने कभी भी वोट ट्रांसफर कराने का करिश्मा करके नहीं दिखाया है। सपा और बसपा के चार बार के कार्यकाल में यादव और दलितों के बीच के रिश्ते इतने तल्ख हुए हैं कि वे ममता बनर्जी की उम्मीद को पंख लगा पाएंगे यह मुश्किल हैं। बावजूद इसके उनकी कोशिश जारी है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story