Top

अमित शाह के रसोइए की तलाश में मायावती, कार्यकर्ता ढूंढ़ने में जुटे

By

Published on 3 Jun 2016 1:54 PM GMT

अमित शाह के रसोइए की तलाश में मायावती, कार्यकर्ता ढूंढ़ने में जुटे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: बसपा प्रमुख मायावती ने अपने कार्यकर्ताओं को आदेश दिया है कि वह उस रसोइये को खोजकर लाएं जिसने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के लिए तब खाना पकाया था जब वे वाराणसी के जोगियापुर गांव आए थे और दलितों के घर भोजन किया था।

दिशानिर्देश जारी होने की पुष्टि की

एक अंग्रेजी अख़बार के मुताबिक, पार्टी सूत्रों का कहना है कि मायावती को भरोसा है कि रसोइया दलित नहीं था। बल्कि वह किसी उच्च जाति का था। पार्टी के क्षेत्रीय संयोजक डॉ. रामकुमार कुरील ने ऐसे दिशानिर्देश जारी होने की पुष्टि की। उन्होंने कहा, जल्द ही वह इस बात का पता लगा लेंगे कि जोगियापुर गांव का भ्रमण करने के दौरान किसने अमित शाह का खाना तैयार किया था।

दावा-दिखी थी जातिवादी मानसिकता

कुरील ने दावा किया कि अमित शाह के साथ 250 लोग आए थे और केवल 50 लोगों ने ही भोजन किया। बाकी ने भोजन नहीं किया जो भगवा ब्रिगेड की जातिवादी मानसिकता को दर्शाता है। कुरील ने कहा कि जहां अमित शाह ने लंच किया वहां अधिकतर भिंड समुदाय के लोग रहते हैं जो अति पिछड़ा वर्ग से संबंध रखते हैं और दलित नहीं हैं। उन्होंने कहा, शाह के साथ केवल कुछ दलित थे जिन्होंने उनके साथ खाना खाया जिससे एक राजनैतिक संदेश जा सके।

'दलितों के साथ भोजन करना एक ड्रामा'

बसपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि यह दुखद है कि दलितों के साथ भोजन को एक कार्य की तरह लिया जा रहा है ताकि दलित वोटों का चुनावों में फायदा उठाया जा सके। इससे पहले मायावती ने भाजपा अध्यक्ष पर हमला बोलते हुए कहा था कि दलितों के साथ भोजन करना एक ड्रामा है। चुनावी वर्ष को ध्यान में रखते हुए यह नौटंकी की जा रही है। मायावती ने कहा था कि जब अमित शाह दलितों के साथ दिन का भोजन कर रहे थे तभी भाजपा शासित राज्य हरियाणा में बसपा संस्थापक और दलित नेता कांशीराम की प्रतिमा के साथ तोड़फोड़ की जा रही थी।

क्या है मामला ?

गौरतलब है कि 31 मई मंगलवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी पहुंचे थे। उन्होंने काशी के सेवापुरी ब्लॉक के जोगियापुर गांव में दलितों से साथ भोजन किया था। शाह ने जोगियापुर में गिरिजा प्रसाद बिंद और इकबाल बिंद के परिवार के साथ दोपहर का भोजन किया। गिरिजा प्रसाद और इकबाल दलित समुदाय से हैं। भाजपा के मीडिया प्रभारी संजय भारद्वाज ने बताया कि भाजपा प्रमुख ने बिंद के परिजनों के साथ जमीन पर बैठकर लौकी का कोफ्ता, नेनुआ की सब्जी और तबे की रोटियों का लुत्फ उठाया। खाना खाने के बाद उन्होंने सीलबंद बोतल का मिनरल पानी पीया।

Next Story